Main

Today's Paper

Today's Paper

गांव में देसी न मिली तो दारू के शौकीन बंदर दुकान पर विलायती गटक गया

DARU

मंडला. दारू के शौकीन इंसान तो आपने बहुत देखे सुने होंगे, लेकिन बंदर  नहीं देखा होगा. मंडला में एक ऐसा बंदर है जिसे दारू की लत लग गयी है. देसी हो या विलायती वो सब गटक जाता है. विलायती में उसे खास ब्रांड ही पसंद है. अभी फिर ऐसा ही हुआ, वो दुकान पर आया और अपनी पसंद की बोतल निकाल कर पीने लगा. उसे देखने के लिए हुजूम लग गया.

इंसानों को शराब पीते और खरीदते तो बहुत देखा होगा. घर-बाहर, ठेके या बार-रेस्टोरेंट्स में ये तो आम बात है, लेकिन क्या किसी जानवर क़ो  शराब पीते देखा है. जानवर भी पालतू नहीं बल्कि जंगली. और ये शौकीन है एक बंदर. इंसानों की तरह इसे भी दारू का शौक लग गया है.
 मंडला जिले के बम्हनी बंजर का है. यहां सिलगी में शराब की एक दुकान पर बंदर घुस आया. दुकानदार उस बंदर से परिचित है, क्योंकि वो अक्सर यहां आ धमकता है. दुकानदार ने उसे बिस्किट वगैरह देने की कोशिश की लेकिन बंदर को उसमें कोई दिलचस्पी ही नहीं थी. वो तो अपनी पसंद की बोतल ढूंढ़ रहा था. थोड़ा ढूंढ़ने के बाद बंदर को अपनी पसंद की ब्रांड की बोतल मिल गयी. बस फिर क्या था. उसने बोतल निकाली. उसकी पैकिंग खोली और फिर ढक्कन हटाया. ठीक उसी तरह जिस तरह कोई इंसान बोतल खोलता है.

ज़ाहिर है बोतल भारी थी. इसलिए बंदर उसे हाथों से नहीं संभाल पा रहा था. उसने एक हाथ से बोतल खोली और दूसरे हाथ का सहारा लेकर मुंह में लगाया. फिर भी बात न बनी तो उसने एक पैर का टेका लगाया और गटागट दारू गटकने लगा. इस दौरान थोड़ी शराब नीचे यहां-वहां बिखर गयी. बंदर ने पहले बोतल की निपटायी और फिर जब वो खत्म हो गयी तो नीचे गिरी शराब मुंह से चाट ली.

दरअसल जब जंगल में महुआ और उसकी बनी देसी शराब इसे नहीं मिलती है तो ये जनाब शहर चले आते हैं. अपनी तलब बुझाने के लिए बंदर शहर का रुख कर लेता है. इस शौकीन बंदर को देखने के लिए लोगों की भीड़ गयी. सब वीडियो बनाते रहे, लेकिन दुकानदार सहित किसी ने भी इस बंदर से पंगा न लेना ही बेहतर समझा.

Share this story