Saturday, November 27, 2021 at 2:57 AM

विवाहिता की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत

बागपत ।  रमाला निवासी जगरोशन ने बताया कि उनकी बेटी मीनाक्षी की शादी छह माह पहले ग्राम कासिमपुर खेड़ी के युवक के साथ हुई थी। शादी में हैसियत के अनुसार खूब दान-दहेज दिया गया था, लेकिन ससुरालीजन दहेज से उससे संतुष्ट नहीं थे। आरोप है कि मीनाक्षी पर दहेज में कार लाने का दवाब बना रहे थे। असमर्थता जताने पर मारपीट कर घर से भी निकाल दिया था। आरोप लगाया कि गत 21 नवंबर को दहेज में कार न लाने पर मीनाक्षी की हत्या की गई। उनको घटना की सूचना भी नहीं दी गई। उन्होंने रमाला थाने पर घटना की तहरीर दी थी, लेकिन पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज नहीं की है। उन्होंने एसपी से शिकायत की। एसपी नीरज कुमार जादौन ने कार्रवाई का आश्वासन दिया। उधर रमाला थाना प्रभारी एनएस सिरोही का कहना है कि इस मामले में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। केस की विवेचना के आधार पर कार्रवाई की जाएगी। रालोद युवा जिलाध्यक्ष की हिमायत में एसपी से मिले अधिवक्ता

दहेज हत्या का मुकदमा दर्ज होने पर रालोद के युवा जिलाध्यक्ष व उनके स्वजन की हिमायत में गुरुवार को अधिवक्ता एसपी से मिले। उनकी मांग है कि इस गलत मुकदमा को खत्म किया जाए। ग्राम निबाली निवासी रालोद के युवा जिलाध्यक्ष एडवोकेट श्रीकांत धामा की भाभी सपना की गत 23 नवंबर को संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई थी। बगैर पोस्टमार्टम के सपना के शव की अंत्येष्टि कर दी गई थी। इस मामले में कोतवाली प्रभारी तपेश्वर सागर ने दहेज हत्या का मुकदमा दर्ज कराया था। इसके विरोध में जिला बार एसोसिएशन के अध्यक्ष सत्येंद्र खोखर व महामंत्री महेंद्र बंसल के नेतृत्व में अधिवक्ता एसपी से मिले। उनका कहना है कि सपना को किसी भी तरह से प्रताड़ित नहीं किया जा रहा था। न ही किसी तरह का घर में विवाद था। सपना ने कमरा बंद करके बेवजह ही फांसी लगाकर खुदकुशी की है। सपना के मायके वाले भी कोई कार्रवाई नहीं चाहते हैं। उसके बावजूद पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया है। उन्होंने मुकदमा खत्म कराने की मांग की है। इस मौके पर एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष जयवीर सिंह तोमर व सोमेंद्र ढाका के अलावा देवेंद्र आर्य, जसपाल राणा, संजय पंवार, मनीष शर्मा, अरुण कांत कौशिक आदि अधिवक्ता मौजूद रहे।