Saturday, January 22, 2022 at 12:49 AM

मकर संक्रांति की बाबा गोरखनाथ से जुड़ी पौराणिक कथा

मकर संक्रांति 2022: मकर संक्रांति का त्योहार इस साल 14 व 15 जनवरी को भी मनाया जाएगा। मकर संक्रांति पर खिचड़ी खाने का विशेष महत्व है। खिचड़ी का संबंध ग्रहों से है। मकर संक्रांति की खिचड़ी में चावल, काली दाल, हल्दी, मटर और हरी सब्जियों का विशेष महत्व है। खिचड़ी के चावल से चंद्रमा और शुक्र की शांति का महत्व है।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, काली दाल से शनि, राहु व केतु का महत्व है। हल्दी का गुरुदेव बृहस्पति से संबंध है। हरी सब्जियों का संबंध बुध ग्रह से माना जाता है। कहते हैं कि जब खिचड़ी पकती है, तो उसकी गर्माहट का संबंध मंगल और सूर्य से है। इसलिए मकर संक्रांति पर खिचड़ी खाने व दान करने का महत्व है। कहते हैं कि मकर संक्रांति के दिन खिचड़ी का सेवन करने से सभी ग्रह शांत होते हैं और सूर्य देव प्रसन्न होते हैं।