Main

Today's Paper

Today's Paper

 आज से जंतर-मंतर पर चलेगी किसानों की 'संसद', धरने में शामिल होंगे 200 किसान

kisan andolan
 नई दिल्ली। एक तरफ संसद का मॉनसून सत्र चल रहा है, दूसरी तरफ आज सदन के बाहर जंतर-मंतर पर किसानों की 'संसद' चलेगी। संसद के मॉनसून सत्र के दौरान नई दिल्ली में विरोध-प्रदर्शन करने की किसानों की मांग को दिल्ली पुलिस ने सशर्त मंजूरी दे दी है। जानकारी के मुताबिक, बुधवार को हुई तीसरे दौर की मीटिंग के बाद 200 किसानों को जंतर-मंतर पर किसान संसद का आयोजन करने की इजाजत दी गई है। सुप्रीम कोर्ट के निर्देश का उल्लंघन ना हो, इसे देखते हुए एक बीच का रास्ता निकाला गया है।

हर संगठन से 5-5 सदस्यों को अनुमति
संयुक्त किसान मोर्चे में देशभर के करीब 40 किसान संगठन शामिल हैं। ऐसे में एक समूह के रूप में इजाजत देने के बजाय अलग-अलग संगठनों के स्तर पर यह इजाजत दी गई है। हर संगठन से 5-5 सदस्यों को जंतर-मंतर पर जाने की इजाजत मिली है। ये सभी लोग गुरुवार सुबह सिंघु बॉर्डर पर इकट्ठा होंगे, जहां से पुलिस खुद 5-6 बसों में बैठाकर इन लोगों को एस्कॉर्ट करते हुए एक तय रूट से जंतर-मंतर तक लेकर आएगी। टीकरी और गाजीपुर बॉर्डर पर बैठे किसान संगठनों के प्रतिनिधियों को भी पहले सिंघु बॉर्डर पहुंचना होगा और वहीं से उन्हें बस में बैठकर जाना होगा।

पुलिस और किसानों के बीच इन बातों पर बनी सहमति
किसान संसद रोजाना सुबह 11 बजे से शाम 5 बजे तक चलेगी
हर संगठन से 5 लोग शामिल होंगे जिनको चिन्हित किया जाएगा
अलग-अलग बॉर्डर के बजाय किसानों को सिंघु बॉर्डर से दिल्ली में एंट्री दी जाएगी
सिंघु बॉर्डर पर इकट्ठा होने के बाद किसान बसों के जरिए जंतर-मंतर जाएंगे
किसानों की बसों के साथ पुलिस की गाड़ी भी चलेगी
जंतर-मंतर पर कोविड नियमों के साथ करना होगा प्रदर्शन
सुरक्षा के इंतजामों के साथ जंतर-मंतर पर CCTV से भी नजर रखी जाएगी
5 बजे के बाद बसों के ही जरिए किसानों को वापस सिंघु बॉर्डर पहुंचा दिया जाएगा
किसान संसद में जो मंच बनेगा, उसे उन्हीं किसानों में से संबोधित किया जाएगा

दो दिन महिलाएं संभालेंगी संसद
बीकेयू के प्रवक्ता धर्मेंद्र ने बताया कि आंदोलन में 40 से अधिक संगठन जुड़े हुए हैं। हर एक किसान संगठन अपनी बारी आने पर जत्थे के लिए 5 किसानों को भेजेगा। किसान संसद जत्थे में शामिल होने वाले हर किसान की अपनी आईडी होगी। उन्होंने बताया कि किसान संसद में 26 जुलाई और 9 अगस्त को महिला किसानों का जत्था प्रमुखता से शामिल होगा।

DDMA ने भी किसानों के प्रदर्शन को अनुमति दी
दिल्ली पुलिस के साथ ही दिल्ली डिजास्टर मैनेंजमेंट अथॉरिटी (DDMA) ने भी किसानों को जंतर मंतर पर विरोध प्रदर्शन की अनुमति दे दी है। डीडीएमए के अडिशनल सीईओ ने राजेश गोयल ने बुधवार की शाम को दिल्ली पुलिस के अडिशनल कमिश्नर (हेडक्वॉर्टर) दीपक पुरोहित को एक पत्र लिखकर सूचित किया कि दिल्ली के उप-राज्यपाल ने दिल्ली पुलिस की तरफ से किए गए अनुरोध को स्वीकार करते हुए संयुक्त किसान मोर्चे के बैनर तले 200 किसानों को जंतर मंतर पर प्रोटेस्ट करने की अनुमति दे दी है।

 

Share this story