Monday, December 6, 2021 at 2:14 AM

हर किसी को नहीं मिलता यहां प्यार जिन्दगी में, गाने में की गई अदाकारी ने फिरोज खान को हीरो बना दिया

दोस्तों आप को पता है जाबाज फिल्म में फिरोज खान की अदाकारी बहुत ही उमदा थी। उनका गाना  हर किसी को नहीं मिलता यहां प्यार जिन्दगी में फिल्म में जान फूक दी है। कुबार्नी उनके कैरियर की सबसे सफल फिल्म रही। इसमें उनके साथ विनोद खन्ना भी मुख भूमिका में थे।बता दें कि उनके दो भाई संजय खान अभिनेता व निमार्ता और समीर खान कारोबारी हैं। उनकी एक भी बहन हैं, जिनका नाम दिलशाद बीबी है। फिल्मी पर्दे पर फिरोज जितने बेबाक थे उतना ही वह असल जिंदगी में भी थे।

फिरोज खान के कैरियर में पहली सफल फिल्म 1965 में फिल्म ऊंचे लोग 1969 में फिरोज खान के अभिनय को पहली बार फिल्मफेयर की पहचान मिली। फिल्म आदमी और इन्सान 1970में अभिनय के लिए फिरोज खान को फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ सहायक कलाकार का पुरस्कार मिला। का जन्म 25 सितंबर, 1939 को बेंगलूर में हुआ था।अफगानी पिता और ईरानी मां के बेटे फिरोज खान बंगलुरू से हीरो बनने का सपना लेकर मुंबई पहुंचे थे। फिरोज खान आखिरी बार फिल्म वेलकम में नजर आए थे।

अपनी आखिरी फिल्म में भी उन्होंने अपनी स्टाइल की छाप छोड़ी। सफर, खोटे सिक्के, अपराध, धर्मात्मा, दयावान, गीता मेरा नाम, कुबार्नी और नागिन उनकी उल्लेखनीय फिल्में हैं। कुबार्नी के रीमेक की उनकी आखिरी ख्वाहिश पूरी नहीं हो सकी। नागिन में भी फिरोज खान ने बहुत ही उमदा भूमिका निभाई थी । फिरोज खान लंबे समय तक कैंसर से पीड़ित थे। 27 अप्रैल, 2009 को उन्होंने बैंगलूरू के फार्म हाउस पर अपने जीवन की आखरी सांस लिया और हम सब को छोड़ कर हमेशा के लिए दुसरी दुनिया में चले गये