Main

Today's Paper

Today's Paper

Tarunmitra Banner

शिकायतों के बाद भी बीकेटी के कई गांवों में  थम नहीं रहा है अवैध खनन!

- जिम्मेदार अफसरों की मिलीभगत से हो रहे अवैध खनन से लाखों रुपये के सरकारी राजस्व को लग रहा है चूना

- बड़े पैमाने पर अवैध खनन व अवैध परिवहन को रोकने के लिए विहिप ने मुख्यमंत्री,पुलिस आयुक्त, जिलाधिकारी सहित जिले के अन्य आलाधिकारियों को भेजा लिखित शिकायती पत्र 

लखनऊ,07अप्रैल(तरुणमित्र)।राजधानी के बीकेटी तहसील क्षेत्र में अवैध मुख्यमंत्री से लेकर डीएम विंडो तक दर्जनों शिकायतों के बाद भी खनन रुकने का नाम नहीं ले रहा है।एसडीएम की मिलीभगत से तहसील क्षेत्र के कई गांवों में यह कारोबार पूरी तरह से फल-फूल रहा है। इसका लाभ उठा रहे हैं दबंग किस्म के लोग। यह लोग तहसील के अधिकारियों व स्थानीय पुलिस की मिलीभगत से अपने काम को बेखौफ होकर अंजाम दे रहे हैं। और मालामाल होकर लाखों रुपये के सरकारी राजस्व को चूना लगा रहे हैं।बीकेटी क्षेत्र के कई गांवों में अवैध खनन को लेकर अब तक दर्जनों शिकायतें भी हो चुकी हैं, फिर भी यहां अवैध खनन का कारोबार रुकने का नाम नहीं ले रहा है। इस कारोबार में पुलिस भी पूरी तरह से लिप्त हैं। पुलिस व प्रशासन के अधिकारियों की मिलीभगत से इस कारोबार को अंजाम दे रहे लोग मालामाल हो रहे हैं।बीकेटी तहसील क्षेत्र में तहसील प्रशासन, पुलिस प्रशासन, खनन विभाग के जिम्मेदार अधिकारियों की मिली भगत से खनन माफियाओं द्वारा किए जा रहे बड़े पैमाने पर अवैध खनन व अवैध परिवहन को रोकने के लिए विहिप जिलाध्यक्ष अधिवक्ता रामप्रकाश सिंह ने मुख्यमंत्री,पुलिस आयुक्त, जिलाधिकारी सहित जिले के अन्य आलाधिकारियों को लिखित शिकायती पत्र भेजा है।

        मुख्यमंत्री को भेजे गए अपने पत्र में विहिप नेता ने कहा है,कि पुलिस कमिश्नरेट के थाना जानकीपुरम व तहसील बीकेटी में स्थित ग्राम पंचायत तिवारीपुर में स्थित तालाब गाटा संख्या 19 रकबा 2.592 हे० पर सरकारी कार्य में मिट्टी पटान का वर्क आर्डर लगाकर खनन माफिया सुधांशु प्रताप सिंह द्वारा अपनी फर्म सिंह एंड कंपनी पर मिट्टी खनन की अनुमति लेकर निर्धारित मानक से काफी अधिक गहराई तक मिट्टी का खनन कराकर निर्धारित स्थान पर मिट्टी ना गिराकर निजी कार्य हेतु महंगे दामों पर सरकारी तालाब की मिट्टी को बेचता चला आ रहा है। मिट्टी के इस काले कारोबार में तहसील प्रशासन, पुलिस प्रशासन, खनन विभाग व जनपद स्तरीय जिम्मेदार अधिकारियों की मिलीभगत चल रही है।तहसील व जिला स्तरीय अधिकारियों के वरदहस्त प्राप्त होने के चलते रात होते ही खनन माफिया का मिट्टी खनन का काला कारोबार शुरू हो जाता है।जो सुबह होने तक चलता रहता है। विहिप नेता ने यह भी कहा है कि तालाब में लगभग 15 फीट गहराई तक मिट्टी खोदकर खनन माफिया द्वारा बेच डाली गई है।इसी तरह से बीकेटी तहसील क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम पैकरामऊ थाना–गुडंबा में स्थित तालाब गाटा संख्या 80 रकबा 6.135 हे० से तहसील प्रशासन, पुलिस प्रशासन, खनन विभाग व जनपद स्तरीय अधिकारियों की मिलीभगत से खनन माफियाओं ने लाखों डंफर मिट्टी खोदकर महंगे दामों पर निजी कार्य हेतु बेच डाला है।उन्होंने यह भी कहा कि यहां पर विगत कई महीनों से अवैध खनन व मिट्टी का अवैध परिवहन जारी है। बीच-बीच में जानकारी के अनुसार खनन माफिया कुछ समय के लिए अधिकारियों से मिट्टी खनन करने की अनुमति ले लेते हैं और अधिकांशतः बिना किसी अनुमति के अधिकारियों की मिलीभगत से अवैध खनन ही किया जाता है। मौके पर ली गई अनुमति से सैकड़ों गुना अधिक मिट्टी का अवैध खनन किया जा चुका है, और अभी भी जारी है।विहिप नेता ने यह भी कहा कि तहसील बख्शी का तालाब क्षेत्र में इसके अतिरिक्त कई अन्य स्थानों पर भी सरकारी कार्यों के वर्क आर्डर लगा कर खनन की अनुमति लेकर काफी बड़े पैमाने पर मिट्टी खोदकर मिट्टी का काला कारोबार किया जा रहा है। इसकी संपूर्ण जानकारी स्थानीय पुलिस व अन्य जिम्मेदार अधिकारियों को भी है।लेकिन सत्ता की धमक व नोटों की चमक के चलते शिकायतों के बाद भी अवैध खनन व परिवहन पर अंकुश नहीं लगाया जा सका है।

Share this story