UKADD
Saturday, October 16, 2021 at 4:20 AM

फार्मासिस्ट की हत्या के केस का पुलिस ने दो आरोपितों को गिरफ्तार किया

बागपत ।  बागपत कोतवाली प्रभारी अजय कुमार शर्मा के मुताबिक पांच अक्टूबर की रात्रि ग्राम बली में तीन साथियों के साथ घूम रहे फार्मासिस्ट सुरेंद्र सिंह की गांव के बाहर गोलियों से भूनकर हत्या कर दी गई थी। उनके भाई सतवीर सिंह ने अज्ञात में मुकदमा दर्ज कराया था। विवेचना के आधार पर मंगलवार को आरोपित अरुण उर्फ चना पुत्र सुभाष व भोला पुत्र रोहताश निवासीगण ग्राम बली को गांव से ही गिरफ्तार किया। पूछताछ में आरोपितों ने कबूला कि अरुण उर्फ चना अपने साथियों के साथ शराब पीकर गली, मोहल्लों में गाली-गलौज और झगड़ा करता था। इसका फार्मासिस्ट सुरेंद्र सिंह विरोध करते थे। एक दिन सुरेंद्र सिंह ने अपनी ट्यूबवेल पर शराब पीते देख आरोपितों को डांट दिया था। तभी आरोपितों ने सुरेंद्र सिंह को मारने की ठान ली थी। योजना के तहत अरुण और भोला ने अपने छह साथियों के साथ मिलकर घटना को अंजाम दिया। आरोपितों में हिस्ट्रीशीटर अमन के अलावा पवन, पंकज निवासीगण ग्राम बली व सुक्की निवासी लोनी (गाजियाबाद), राहुल निवासी ग्राम गेज्जा व एक अज्ञात अपराधी निवासी मेरठ शामिल हैं। पकड़े गए दोनों आरोपितों के पास से घटना में प्रयुक्त दो तमंचे 315 बोर मय चार कारतूस बरामद कर अदालत में पेश किया। उन्हें न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेजा गया है। फरार आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए संभावित स्थानों पर दबिश दी जा रही है। आरोपित पंकज भाजपा नेता एवं जिला पंचायत सदस्य रविद्र का भतीजा है। भाजपा नेता एवं जिला पंचायत सदस्य रविद्र बली से भतीजे पंकज के घटना में शामिल होने के बारे में पूछा गया, तो उन्होंने कहा कि ऐसी कोई जानकारी नहीं मिली है।

कोतवाली प्रभारी के मुताबिक हिस्ट्रीशीटर अमन बली के खिलाफ हत्या, लूट समेत विभिन्न धाराओं के कई मुकदमे दर्ज हैं। उसने अपने साथियों के साथ मिलकर एक साल पूर्व कस्बा अग्रवाल मंडी टटीरी में व्यापारी की दुकान पर पहुंचकर लूट की थी। आरोपितों में पंकज भी शामिल रहा था।