राणा दंपति ने जमानत शर्तों का किया उल्लंघन?

मुंबई: लोकसभा सांसद नवनीत राणा और उनके विधायक पति रवि राणा की जमानत को आज चुनौती दे सकती है। विशेष लोक अभियोजक प्रदीप घरत ने कहा, “मैंने नवनीत राणा और रवि राणा की कुछ क्लिप भेजी हैं। उन क्लिप को ध्यान से देखने के बाद, मेरा मानना है कि उनकी बातचीत उन्हें दिए गए जमानत आदेश में रखी गई शर्तों का उल्लंघन है। इसलिए मैं कर्तव्यबद्ध हूं कि इसे अदालत के सामने लाऊं। मैं इसे कल अदालत के सामने रखूंगा। मैं अदालत से उनके खिलाफ गैर-जमानती वारंट जारी करने और उन्हें हिरासत में लेने की अपील करूंगा।

निर्दलीय सांसद नवनीत राणा ने रविवार को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को उनके खिलाफ चुनाव लड़ने की चुनौती दी। उन्होंने यह भी दावा किया कि मुंबई के लोग और भगवान राम नगर निकाय चुनावों में शिवसेना को सबक सिखाएंगे। सांसद ने कहा, “मैंने क्या अपराध किया था कि मुझे 14 दिनों तक जेल में रहना पड़ा? आप मुझे 14 साल के लिए जेल में डाल सकते हो लेकिन मैं भगवान राम और हनुमान का नाम लेना बंद नहीं करूंगी। मुंबईवासी और भगवान राम निकाय चुनावों में शिवसेना को सबक सिखाएंगे।”

राणा दंपति की क्यों हुई गिरफ्तारी?
महाराष्ट्र में अमरावती से सांसद नवनीत राणा और उनके विधायक पति रवि राणा को मुंबई पुलिस ने 23 अप्रैल को गिरफ्तार कर लिया था। दंपति ने घोषणा की थी कि वे यहां मुख्यमंत्री ठाकरे के निजी आवास ‘मातोश्री’ के बाहर हनुमान चालीसा का पाठ करेंगे, जिससे शिवसेना के कार्यकर्ता आक्रोशित हो गए थे। मुंबई की एक विशेष अदालत ने दंपति को चार मई को जमानत दी थी। वे पांच मई को जेल से बाहर आए, जिसके बाद नवनीत राणा को यहां एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। उनके वकील ने बताया था कि राणा को हाई ब्लड प्रेशर, शरीर में दर्द और स्पॉन्डिलाइटिस की शिकायत थी।

मुख्यमंत्री को लोगों की ताकत का लगेगा अंदाजा’
अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद रविवार को नवनीत राणा ने कहा, “मैं उद्धव ठाकरे जी को एक निर्वाचन क्षेत्र का चुनाव करने और लोगों द्वारा सीधे निर्वाचित होने की चुनौती देती हूं। मैं उनके खिलाफ लडूंगी। मैं ईमानदारी के साथ कठिन मेहनत करूंगी और चुनाव जीतूंगी व उन्हें (मुख्यमंत्री) लोगों की ताकत का पता चल जाएगा।
See also  गलत बस में चढ़ गई लड़की