Wednesday, December 8, 2021 at 3:20 PM
DJHȤL¤ü¹æÕæÎ Ñ ×¢çÎÚU ×ð¢ SÍæçÂÌ â梧ü ÕæÕæ ·¤è ÂýçÌ×æÐ Áæ»ÚU‡æ

साईं मंदिर मूर्ति स्थापना के अवसर पर धूमधाम से साईंबाबा की शोभायात्रा निकाली गई

फर्रुखाबाद । गुरुवार सुबह साईंबाबा की शोभायात्रा प्रारंभ हुई। शोभायात्रा में सबसे आगे चल रहे डीजे पर बज रहे भक्ति गीतों पर युवक-युवतियां, बच्चे, पुरुष व महिलाएं नृत्य करते हुए चल रहे थे। यात्रा का जगह-जगह पुष्पवर्षा कर स्वागत भी किया गया। यात्रा खानपुर से होते हुई अमेठी कोहना स्थित साईं धाम मंदिर पहुंची, जहां समापन हो गया। दोपहर बाद खानपुर स्थित साईं मंदिर में भंडारे का आयोजन किया गया। भंडारे में पूड़ी-सब्जी का लोगों ने जमकर लुत्फ उठाया। इस अवसर पर जय सिंह राजपूत, प्रदोष राजपूत, राजीव राजपूत व संजीव राजपूत आदि मौजूद रहे।

गांव सलेमपुर स्थित गमा देवी मंदिर में श्रीराम कथा में आचार्य मनोज अवस्थी ने भगवान श्रीराम की बाल लीलाओं का वर्णन किया। उन्होंने कहा कि श्रीराम संस्कार की साक्षात प्रतिमूर्ति हैं। राम इस राष्ट्र के प्राण तत्व हैं, भारत की भोर का प्रथम स्वर हैं राम। उन्होंने कहा कि जो राष्ट्र का मंगल करे वही राम है और जो लोकमंगल की कामना करे वही राम है। जहां नीति और धर्म है वहां श्रीराम हैं।

आचार्य ने कहा कि संयम, शांति, सौहार्द, सांप्रदायिक एकता एवं समन्वय ही धर्म का वास्तविक स्वरूप है। श्रीराम ही साक्षात धर्म विग्रह हैं। श्रीराम ने ताड़का वध किया और अहिल्या का उद्धार किया। श्रीराम गुरु विश्वामित्र के साथ जनकपुर गए और शंकर जी के पिनाक धनुष का खंडन किया। जो साधक अहंकार के धनुष को तोड़ देता है, भक्ति उसका वरण कर लेती है। राम विवाह की झांकी देख लोग भाव विभोर हो गए। श्री राम सेवा समिति मेरापुर के तत्वावधान में बैंड बाजे के साथ कलश यात्रा पूरे गांव में निकाली गई। कलश यात्रा में महिलाएं पीले वस्त्र पहन सिर पर कलश रखे थीं। कलश यात्रा गांव के मंदिरों में होती हुई कथा पंडाल में पहुंची। आचार्य मानस मोहनी संध्या तिवारी के श्री मुख से राम कथा शुक्रवार से शुरू होगी।