UKADD
Thursday, October 21, 2021 at 9:10 PM

926 गांवों के जर्जर तार व पोल बदले जाने लगे

बलिया ।  926 गांवों के जर्जर तार व पोल बदले जाने लगे हैं। हैदराबाद की कंपनी नागार्जुन कंस्ट्रक्शन कंपनी ने काम शुरू कर दिया है। उसने पांच टीम बनाई है। जर्जर तार हटाकर एरियल बंच कंडक्टर (एबीसी) लगाया जा रहा है। साथ ही जर्जर पोल पर तुरंत बदल दिए जा रहे हैं। करीब 62 गांवों में कार्य पूरा कर लिया गया है। 16 गांवों में इसी हफ्ते कार्य पूरा करने के निर्देश जारी कर दिए गए हैं। फिलहाल पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम के इंजीनियर अपनी निगरानी में परियोजना को दिसंबर तक धरातल पर उतारने की कोशिश में हैं। बिजली चोरी व दुर्घटनाओं को नियंत्रित करने में मदद मिलेगी। निगम ने 70 करोड़ की परियोजना स्वीकृत की है। 350 जर्जर पोल की आमद हो चुकी है। इसके लिए कंपनी ने 20 हजार से अधिक केबिल बाक्स भी मंगा लिए हैं। करीब साढ़े नौ सौ किलोमीटर लाइनें बिछाई जानी है, इसके अनुपात में 220 किलोमीटर एबीसी की आमद हो चुकी है। कार्य पूरा होने के बाद बिजली की ट्रिपिग की समस्या खत्म होगी।

शहरी क्षेत्र के उपभोक्ताओं को 24 घंटे, तहसील पर 20 और गांवों में 18 घंटे बिजली आपूर्ति का निर्देश है, मगर धरातल पर ऐसा नहीं हो रहा है। वर्षों पुराने जर्जर तार व कटियामारी के कारण ग्रामीण क्षेत्रों में ट्रिपिग की समस्या आम बात है। कई क्षेत्रों में बिजली कुछ ही घंटे मिल पाती है। बिजली विभाग को इससे हर वर्ष करोड़ों रुपये का नुकसान होता है।