Wednesday, December 8, 2021 at 2:12 PM

आपदाग्रस्त बच्चों के लिए शिक्षक मण्डल खोलेगा सांयकालीन स्कूल

रामनगर। आपदाग्रस्त बच्चों की पढ़ाई-लिखाई के लिए रचनात्मक शिक्षक मण्डल ने सांयकालीन स्कूल खोलने का निर्णय लिया है। प्राथमिक पाठशाला घासमंडी में बैठक के दौरान यह निर्णय लिया गया कि शिक्षक मण्डल पूछड़ी के कोसी की बाढ़ से आपदाग्रस्त हुए बच्चों की पढाई को व्यवस्थित करने के लिए 26 नवम्बर शुक्रवार को संविधान दिवस के मौके पर ग्राम प्रधान नरगिस व उनके पति शकील अंसारी की मदद से सांयकालीन स्कूल खोलेगा। यह स्कूल लड़कियों के लिए हिंदुस्तान में पहला स्कूल खोलने वालीं सावित्रीबाई फुले के नाम से होगा। बैठक के दौरान आपदापीड़ित बच्चों की मदद के लिए शिक्षक मण्डल द्वारा एक माह तक चले अभियान का ब्यौरा देते हुए संयोजक नवेन्दु मठपाल ने बताया कि शिक्षक मण्डल को उसके सहयोगियों, शुभचिंतकों द्वारा एक लाख इक्यासी हजार की नगद राशि मिली। जबकि 500 कम्बल कमल अरोड़ा डिप्टी कमिश्नर देहरादून, 200 स्वेटर धाद संस्था देहरादून, 100 स्वेटर अनुपम शर्मा, अनुपम एन्ड कम्पनी रामनगर, 100 स्वेटर अनूप डोभाल देहरादून,100 जैकेट जगदीश पाण्डे, 50 स्कूली बैग राजेश शर्मा शक्ति बुक सेंटर,15 स्कूली बैग मदर्स ग्लोरी पब्लिक स्कूल रामनगर द्वारा दिए गए थे। इस सभी सामग्री का वितरण कुनखेत, चुकुम, मोहान, सुंदरखाल, पूछड़ी व रामगढ़ के 800 से अधिक आपदाग्रस्त स्कूली बच्चों व परिवारों में किया गया। पूछड़ी के 5 परिवारों को गैस चूल्हे भी दिए गए। बैठक में नन्दराम आर्य, बालकृष्ण चन्द, गिरीश मेंदोला, जीतपाल कठैत, सैयद सरदार रिजवी, सुभाष गोला, नवेन्दु जोशी, प्रकाश फूलोरिया, जगदीश सती, हेम पांडे मौजूद रहे।