Main

Today's Paper

Today's Paper

क्या फोन सेटिंग्स बिगड़ने से ज्यादा खर्च होता इंटरनेट डाटा

Will internet data cost more than deteriorating phone settings

अगर आपने नया स्मार्टफोन खरीदा है और आपका इंटरनेट डाटा तेजी से खत्म हो रहा है तो इसके लिए फोन की सेटिंग में मौजूद कुछ फीचर जिम्मेदार हो सकते हैं, जिन्हें कंपनियां ऑन करके ही ग्राहकों को देती हैं। यूजर अमूमन इन फीचर से अनजान होते हैं और डाटा खपत के लिए टेलिकॉम कंपनियों को कोसते हैं, जबकि ऐसी स्थिति में फोन सेटिंग्स में बदलाव ही इंटरनेट डाटा बचाने का एकमात्र जरिया होता है। आइए ऐसे ही कुछ फीचर और उन्हें ऑफ करने के उपायों के बारे में जानते हैं...


ऑटो सिंक को करें ऑफ

एंड्रॉयड ऑपर्रेंटग सिस्टम पर काम करने वाले स्मार्टफोन में अधिकांश फाइलों का बैकअप बनता चला जाता है, ताकि फोन गुम या खराब होने की स्थिति में जरूरी फाइलों को दोबारा हासिल किया जा सके। ये फाइलें जीमेल अकाउंट के जरिए गूगल ड्राइव पर सेव होती जाती हैं, जो इंटरनेट डाटा की खपत करता है। इनमें इंस्टेंट मैसेजिंग एप्लीकेशन पर आने वाले मैसेज, फोटो, वीडियो और ऑडियो फाइलें भी शामिल होती हैं। यूजर फोन के ऑटो सिंक मोड को बंद करके फाइलों को गूगल ड्राइव पर सेव होने से रोक सकते हैं। इसके लिए फोन की सेटिंग्स में जाएं और वहां मौजूद अकाउंट का विकल्प चुनें। आपको गूगल अकाउंट का विकल्प दिखेगा। इस पर क्लिक करने पर उन जीमेल अकाउंट की सूची आ जाएगी, जिन पर आपकी फाइलों का बैकअप बन रहा है। अकाउंट पर क्लिक करके सिंक के विकल्प को ऑफ कर दें।

 

डाटा सेवर मोड अपनाएं

इंटरनेट सर्फिंग के लिए ज्यादातर यूजर गूगल के क्रोम ब्राउजर या फिर यूसी ब्राउजर का इस्तेमाल पसंद करते हैं। इन दोनों ही ब्राउजर में इंटरनेट डाटा की खपत कम करने का विकल्प मौजूद है। बस यूजर को सेटिंग्स में जाकर डाटा सेवर मोड को ऑन करने की जरूरत पड़ती है। क्रोम ब्राउजर में डाटा की खपत करने के लिए फोन की सेटिंग्स खोलें। यहां आपको डाटा सेवर का विकल्प मिलेगा। उसे चुनने पर एक नया बार खुलेगा, जिसमें ऊपर दाईं ओर दिए गए बटन पर टैप करने पर डाटा सेवर मोड ऑन हो जाएगा। यूजर इसी तरह यूसी ब्राउजर की सेटिंग्स में मौजूद टेक्स्ट ऑनली मोड को ऑन करके इंटरनेट सर्फिंग के दौरान डाटा की खपत घटा सकते हैं।

 

वीडियो क्वालिटी घटाएं

यू-ट्यूब, नेटफ्लिक्स और गूगल प्ले म्यूजिक जैसे एप इंटरनेट डाटा की अहमियत समझते हैं। इसलिए इन पर वीडियो की क्वालिटी चुनने का विकल्प उपलब्ध कराया गया है। एचडी वीडियो ज्यादा डाटा खाते हैं, जबकि नॉर्मल वीडियो देखने पर इंटरनेट पैक की खपत सामान्य और लो क्वालिटी के वीडियो चलाने पर यह काफी कम हो जाती है। यू-ट्यूब पर मनचाही वीडियो क्वालिटी चुनने के लिए उसकी सेटिंग्स में जाएं। यहां आपको जनरल का विकल्प मिलेगा। उसे चुनने पर स्क्रीन पर लिमिट मोबाइल डाटा यूसेज का विकल्प खुलकर आ जाएगा। इसे ऑन कर दें। आपके फोन में यू-ट्यूब के एचडी वीडियो तभी प्ले होंगे, जब वह वाई-फाई नेटवर्क से जुड़ा होगा।

 

ऑटो अपडेट रखें ऑफ

कंपनियां अक्सर अपने स्मार्टफोन एप का अपडेट जारी करती हैं। कई बार वे एप से कुछ नए फीचर जोड़ती हैं तो कई बार उनमें मौजूद बग हटाती हैं। जरूरी नहीं है कि सभी अपडेट यूजर के लिए उपयोगी हों। ऐसे अपडेट आपका इंटरनेट डाटा न खाएं, इसके लिए गूगल प्लेस्टोर खोलें और वहां दिए गए सेटिंग्स के विकल्प पर क्लिक करें। आपको ऊपर की ओर ऑटो अपडेट एप्स लिखा मिलेगा। उसे चुनने पर तीन अन्य विकल्प नजर आएंगे। पहला डू नॉट अपडेट, दूसरा ऑटो अपडेट एनीटाइम और तीसरा ऑटो अपडेट एप्स ओवर वाई-फाई ओनली। तीसरे पर क्लिक करने से आपके एप तभी अपडेट होंगे, जब फोन वाई-फाई डाटा का इस्तेमाल कर रहा होगा।





 

Share this story