Saturday, January 22, 2022 at 12:48 AM

सुपोषण लाने का एक प्रयास है ताकि हम बन सके मिसाल: सीडीओ

वाराणसी। बच्चों, किशोरियों एवं गर्भवती महिलाओं के पोषण व स्वास्थ्य देखभाल तथा रोग-प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करने के लिए बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग की ओर से लगातार पोषाहार का वितरण किया जा रहा है। शासन की मंशा को और अधिक उपयोगी बनाने के लिए जनपद वाराणसी के मुख्य विकास अधिकारी (सीडीओ) अभिषेक गोयल ने एक से छह वर्ष तक के कुपोषित बच्चों, 11 से 14 साल तक की स्कूल न जाने वाली किशोरियों एवं गर्भवती के स्वास्थ्य देखभाल के लिए “अभिनव पहल” के रूप में एक नई पहल की शुरूआत की है। इस पहल का मुख्य उद्देश्य बच्चों, किशोरियों एवं गर्भवती के पोषण स्तर को मजबूत करना है।
मुख्य विकास अधिकारी अभिषेक गोयल ने इस बाबत बताया कि 18 अक्टूबर 2021 से “अभिनव पहल” की शुरुआत की है । इस पहल का उद्देश्य है कि ग्रामीण परिवेश में रह रहे कुपोषित बच्चों, स्कूल न जाने वाली किशोरियों एवं गर्भवती को पोषाहार के अतिरिक्त मल्टी विटामिन, आयरन आदि जरूरी सूक्ष्म पोषक तत्व भी मिलते रहें। इस पहल के तहत कुपोषित बच्चों, किशोरियों एवं गर्भवती महिलाओं को अलग-अलग ब्लॉक में डबल्यूएचओ व यूनिसेफ से स्वीकृत सूक्ष्म एवं संपूरक तत्व यथा मल्टी विटामिन, आयरन गोली, आयरन सीरप, एल्बेण्डाजोल की गोली आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों द्वारा घर-घर जाकर अपने समक्ष ही खिलाई जा रही है। इसके लिए अलग-अलग प्रकार के लाभार्थियों के लिए विभिन्न प्रयास किए जा रहे हैं | गर्भवती के लिए-तीन विकासखंड अराजीलाइन, बड़ागांव और चिरईगांव ,कुपोषित बच्चों के लिए तीन विकासखंड काशी विद्यापीठ, हरहुआ व सेवापुरी में ,किशोरियाँ को विकासखंड पिंडरा, चोलापुर व नगर परियोजना (आंशिक) में दवाओं का सेवन कराया जा रहा है। तीन माह तक चलने वाला यह अभियान 30 जनवरी 2022 अर्थात पूरे 100 दिनों तक संचालित किया जाएगा। इसके बाद नतीजों के आधार पर आगे की रणनीति बनाते हुये इसको नियमित रूप से संचालित किया जाएगा।