Main

Today's Paper

Today's Paper

ब्लाक प्रमुख पद पर कब्जा करने के लिए ठोस रणनीति तैयार

gh

अलीगढ़ ।  भाजपा ने विरोधी दलों को पटकनी दी है। इस दांव से सजग बसपा, रालोद व सपा सर्तक हो गई है। इस का सियासी बदला लेने के लिए ब्लाक प्रमुख पद पर कब्जा करने के लिए ठोस रणनीति तैयार की है। विकास खंड स्तर पर रणनीति को अंजाम दिया जा रहा है। हालांकि सत्ताधरी दलों के राजनीतिक दांव भी कम नहीं होगे। ब्लाक प्रमुख के दावेदार क्षेत्र पंचायत सदस्यों की घेरा बंदी के लिए जुट गए हैं। इस समय बसपा के तत्कालीन ब्लाक प्रमुख खैर से दिवाकर गौड हैं। यह पूर्व विधायक प्रमोद गौड के पुत्र हैं। यह इस बार भी इनके स्वजन चुनावी समर में होंगे। इनके परिवार के आठ निर्विरोध बीडीसी चुनाव जीते हैं। इस बार भी तैयारी पूरी है। इनके सियासी किले में सेंध लगाने के लिए भाजपा भी अपने दांव पेंच लगा रही है। लोधा विकास खंड से सपा जिलाध्यक्ष गिरीश यादव तत्कालीन ब्लाक प्रमुख हैं। इन्हें टक्कर देने के लिए हरेंद्र सिंह व वीरेश सिंह ने सियासी गोटियां बिछा दी हैं। यह बरौली विधायक दलवीर सिंह के निकटतम गिने जाते हैं। यहां अगर भाजपा ने हरेंद्र व वीरेश की जीत में अडंगा नहीं लगाया तो इनकी राह आसान हो सकती है

शराब माफिया की पत्‍नी भी मैदान में

जवां से जिले का सबसे बड़ा शराब माफिया ऋषि कुमार शर्मा की पत्नी रेनू शर्मा हैं। यह परिवार शराब के केस में फंस चुका है। इस ब्लाक से इस बार मोमराज सिंह निर्विरोध बीडीसी जीते हैं। इनके भाई हरेंद्र सिंह निर्विरोध ब्लाक प्रमुख बनाने की पूरी तैयारी कर चुके हैं। अतरौली से भाजपा के वरिष्ठ नेता केहरी सिंह निर्वतमान ब्लाक प्रमुख हैं। इस विकास खंड पर सबसे ज्यादा भाजपा में ही मारा-मारी है। सपा इनका गणित बिगाड़ने की फिराक में है। बिजौली विकास खंड से उर्मिला देवी सूर्यवंशी ब्लाक प्रमुख हैं। यह सपा के पूर्व विधायक वीरेश यादव की खास समर्थक हैं। यहां सपा मजबूती के साथ ब्लाक प्रमुख के लिए दावेदारी कर रही है। भाजपा नेता भी अपनी पार्टी के समर्थकों में से एक को जिताने के लिए दम भर रहे हैं। इगलास में रवेंद्र पाल सिंह निर्वतमान ब्लाक प्रमुख हैं। यह लगातार दल बदल रहे हैं। कभी रालोद के साथ तो इससे पहले कांग्रेस के समर्थक।

गंगीरी से सपा नेता महेश यादव ब्लाक प्रमुख हैं। इस बार भी सपा इस पद को काबिज करने के लिए जोर अजमाइश कर रही है। यहां भाजपा के छर्रा विधायक ठा. रवेंद्र पाल सिंह की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है। पिछली बार चंडौस ब्लाक प्रमुख के रुप में किरन देवी निर्वाचित हुईं थी। इस बार समीकरण बदला हुआ है। यह बसपा के निकटतमों में शुमार थीं। इस बार यहां रालोद दावा कर रही है। टप्पल में बनी सिंह, अकराबाद में मुकेश कुमार सिंह व धनीपुर ब्लाक प्रमुख स्नेहलता जादौन चुनाव जीती थीं यह पूर्व ब्लाक प्रमुख तेजबीर सिंह की पन्ती हैं। इस बार समीकरण बदल गए हैं।

Share this story