Main

Today's Paper

Today's Paper

कोविड से बचाव के लिए प्रतिभागियों ने इनोवेशन का प्रेजेंटेशन दिया

ngh

अयोध्या।  डॉ0 राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 रविशंकर सिंह के दिशा-निर्देशन में आईईटी संस्थान में चल रहे इंजीनियर रिसर्च एंड इनोवेशन टू विन ओवर कोविड-19, आइडिया थान-2021 विषय पर पांच दिवसीय कार्यशाला के चैथे दिन 10 जून 2021 को प्रतिभागियों ने बढ़चढ कर वर्चुअल इनोवेशन का प्रेजेंटेशन दिया। इसमें संस्थान के एमटेक इलेक्ट्रॉनिक एंड कम्यूनिकेशन इंजीनियरिंग के छात्र प्रियांशु कुमार पांडेय ने हेल्थ एटीएम के इंस्टॉलेशन एंड इंटीग्रेशन विषय पर इनोवेशन प्रस्तुत किया। उन्होंने बताया कि कोविड-19 महामारी के दौरान ज्यादातर मौतें जांच व इलाज के अभाव में हो गई। इससे बचाव के हेल्थ एटीएम सतर्क करने के साथ स्वास्थ्य सम्बन्धित जानकारी उपलब्ध करायेगा। डॉ0 अम्बेडकर इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, बैंगलोर के मैकेनिकल इंजीनियरिंग के छात्र मनोज कुमार ने एयर ब्रेकिंग सिस्टम बाॅय यूजिंग इंजन एक्जॉस्ट पर पाॅवर प्वाइंट प्रेजेंटेशन के माध्यम से शोध-पत्र प्रस्तुत किया।   कार्यशाला में इनोवेटर्स बृजेश कुमार मिश्र व आकाश सिंह के द्वारा संयुक्त अल्ट्रा वायलट कंपोजिंग कोरोना डिस-इंफेक्शन मशीन के बारे में जानकारी दी गई। उन्होंने बताया कि मशीन कैसे वायरस को एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति के संपर्क में आने से पहले ही उसे निष्क्रिय कर देती है। यह मशीन दो लेयर में कार्य करती है। पहला अल्ट्रा वायलट जिसमें स्किन को कम नुकसान पहुॅचाती है। दूसरी ओजोन गैस के द्वारा बैक्टीरिया को खत्म कर देती है। इसी क्रम में बलरामपुर के इनोवेटर्स आशुतोष पाठक ने कोविड से बचाव के लिए सुरक्षा कवच जैकट के बारे में प्रेजेंटेशन दिया। उन्होंने बताया कि इसमें लगे सेंसर से सामने वाले व्यक्ति से दो गज की दूरी बनाये रखने के लिए अलार्म द्वारा अलर्ट किया जाता है। कार्यशाला की शुरूआत आईईटी संस्थान के निदेशक प्रो0 रमापति मिश्रा ने की। उन्होंने छात्रों को इनोवेशन और स्टार्टअप के लिए प्रेरित किया और कहा कि स्वयं का स्टार्टअप शुरू करने के लिए ग्रुप बनाये। इससे कार्यों में सहजता के साथ इनोवेशन में तेजी आयेगी।

Share this story