Main

Today's Paper

Today's Paper

 जिले में शेष दो लाख, 21 हजार एफएमडी वैक्सीन नष्ट की जाएगी।

vj

आजमगढ़।  जिले में शेष दो लाख, 21 हजार एफएमडी वैक्सीन नष्ट की जाएगी। कोल्डचेन से बाहर आने से पहले केंद्र सरकार से मिली वैक्सीन टेस्टिग में अधोमानक पर मिली है। पूरे देश में आपूर्तिकर्ता संस्था नैफेड के अधिकारियों के सामने नष्ट किया जाएगा। पिछले साल अक्टूबर से राष्ट्रीय टीकाकरण अभियान शुरू किया गया था। सितंबर में जिले के लिए नौ लाख, 39 हजार डोज वैक्सीन की भेजी गई थी। वैक्सीन का निर्माण इंडियन इम्यूनोलाजिकल सेंटर हैदराबाद ने किया। अभियान शुरू होने के बाद वैक्सीन जांच में अधोमानक पाई गई। हालांकि जिले में सात लाख, 72 हजार, 288 डोज वैक्सीन पशुओं को लग चुकी थी। अभियान शुरू होने के बाद वैक्सीन को नष्ट करने का प्रोटोकाल जारी किया गया है। मुख्य पशु चिकित्याधिकारी डा. वीके सिंह ने बताया कि शेष एफएमडी वैक्सीन को नष्ट कराने के संबंध में शासन और फिर वीडियो कांफ्रेंसिग में संयुक्त सचिव ने नष्ट करने के संबंध में निर्देश दिए हैं। प्रदेश स्तर पर होने वाली कवायद आपूर्तिकर्ता संस्था के कर्मचारी जनप्रतिनिधि, आमजनता और मीडियाकर्मियों के समक्ष करेंगे।

जिले के गो-आश्रय स्थलों में संरक्षित पशुओं के लिए प्रशासन की तरफ से भूसा, खुद्दी-चोकर दान में मांगा गया है। सीवीओ डा.वीके सिंह ने किसानों का आह्वान किया है कि संरक्षित गोवंशों के लिए भूसा व चारा दान में दें, जिससे उनके पोषण की बेहतर व्यवस्था सुनिश्चित हो सके। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में कुछ दिक्कतों के कारण भूसा का एकत्रीकरण नहीं हो सका। हालांकि प्रशासन स्तर पर व्यवस्था सुनिश्चित की जा रही है लेकिन यदि कोई किसान दान करना चाहता तो वह अपने क्षेत्र के गोआश्रय स्थलों में दे सकता है। इससे जहां बेसहारा पशुओं को राहत मिलेगी वहीं किसान भी संतुष्ठ हो सकेंगे।

Share this story