Main

Today's Paper

Today's Paper

बीते सत्र की किताबें, आज अपनी बर्बादी पर आंसू बहा रहीं

बीते सत्र की किताबें, आज अपनी बर्बादी पर आंसू बहा रहीं
बिसौली, 15 जुलाई  (तरूणमित्र)। बेसिक शिक्षा विभाग लापरवाही की हद से भी आगे निकल चुका है। जी हां यही सत्य है। जूनियर स्कूल अग्निकांड को लोग अभी भूले नहीं हैं। ठीक इसी स्थान के पीछे कमरे को नशेड़ियों ने अपना सुरक्षित अड्डा बना रखा है। उक्त कमरे में बीते सत्र की किताबें पूरे साल खुद के बंटने का इंतजार करती रहीं और आज अपनी बर्बादी पर आंसू बहा रहीं हैं।
यहां बता दें कि बीते वर्ष जूनियर हाईस्कूल प्रांगण में स्थित इन्हीं कमरों में दो बार भीषण अग्निकांड हुआ था जिसमें हजारों की संख्या में स्कूली बैग जलकर खाक हो गये। विभागीय अधिकारियों ने अधीनस्थों को बचाने के लिए मामले को दबा दिया। इसी कमरे के पीछे स्थित अन्य कमरों में बीते सत्र की हजारों किताबें रखी हैं। रोना तो इस बात का है कि उक्त कमरे में भी दरवाजे नहीं हैं। इसका फायदा उठाकर नशेड़ियों ने कमरों को सुरक्षित अड्डा बना लिया है। नशेड़ी किस्म के लोग मौका मिलते ही कमरों में बैठकर इत्मीनान से विभिन्न प्रकार का नशा करते हैं। इसका प्रमाण उक्त फोटो हैं जिनमें बीयर कैन से लेकर प्रतिबन्धित इंजेक्शन भी दिखाई दे रहे हैं। नागरिकों का कहना है कि नशेड़ी प्रवृत्ति के लोग कभी भी मासूम बच्चों के लिए बड़ा खतरा बन सकते हैं। लोगों ने डीएम से मामले की उच्चस्तरीय जांच कराकर दोषियों के विरुद्ध कार्रवाई की मांग की है।

Share this story