Main

Today's Paper

Today's Paper

Tarunmitra Banner

अबोध बच्ची का हत्यारा पिता ही निकला 

तुलसीपुर ,बलरामपुर ।दिनांक 30 मार्च को थाना तुलसीपुर में इंद्रजीत मौर्य उर्फ छैलू पुत्र नान बच्चा निवासी ग्राम शिवपुरा मशमूले कल्याणपुर थाना तुलसीपुर जनपद बलरामपुर द्वारा तहरीर सूचना देकर आरोपी गण रामसूरत यादव व संचित कुमार के विरुद्ध मुकदमा अपराध संख्या 70  / 2021 धारा 302 आईपीसी पंजीकृत कराया था। उक्त अभियोग की विवेचना अपर पुलिस अधीक्षक व क्षेत्राधिकारी तुलसीपुर के पर्यवेक्षण में प्रभारी निरीक्षक तुलसीपुर अनिल सिंह द्वारा संपादित करते हुए गहराई व निष्पक्ष रुप से साक्ष्य संकलित की गई तो पाया गया की वादी मुकदमा इंद्रजीत मौर्य द्वारा जून 2020 व  जुलाई2020में अपने खेत का बैनामा आरोपी रामसूरत यादव वह संचित कुमार की पत्नी को किया था ।

जिसका पूरा प्रतिफल उसने प्राप्त कर लिया था। बाद में वह जमीन का रेट बढ़ जाने की बात कह कर उपरोक्त दोनों से और रुपए की माग करने लगा। जब उक्त दोनों ने और रुपया देने से इनकार कर दिया तो वादी उक्त दोनों व्यक्तियों से रंजिश रखने लगा और इनके विरुद्ध मनगढ़ंत वह असत्य आरोप लगाकर प्रार्थना पत्र देने लगा और इनके विरुद्ध न्यायालय में बाद भी संस्थित कर दिया । इस पर भी संतुष्ट ना होने पर गांव में वह कहता फिरता था ,उक्त दोनों व्यक्तियों को जब तक मैं गंभीर मुकदमे में नहीं फंसा दूंगा तब तक मुझे चैन नहीं है। उसके लिए मुझे चाहे जो करना पड़े। इसी रंजिश को लेकर दिनांक 30 मार्च 2021 को योजनाबद्ध तरीके से वादी अपनी पुत्री को गोद में लेकर शाम लगभग 7:30 बजे गांव से बाहर नहर पार कर कल्याणपुर के काटू के गेहूं के खेत में गया और वहां अपनी पुत्री की गला दबाकर हत्या कर दिया और लाश वहीं छोड़कर गांव में वापस आया और अपनी पुत्री को ढूंढने के लिए अपने घर पर व गांव के लोगों से कहा तथा मंदिर से प्रचार भी कराया तथा रात लगभग 9:15 स्वयं ही अपनी पुत्री की लाश गांव से लगभग 600 मीटर की दूरी पर काटू के खेत से बरामद किया ।


विवेचना से उक्त घटना में नामित अभियुक्त गण रामसूरत यादव तथा संचित कुमार  की नामजद  को ही गलत पाई गई। अभियोग में वादी मुकदमा इंद्रजीत मौर्य का नाम प्रकाश में आया। विवेचक अनिल सिंह कोतवाल तुलसीपुर द्वारा अपनी टीम के साथ अभियुक्त इंद्रजीत मौर्य को गिरफ्तार कर लिया गया। इंद्रजीत मौर्य ने अपने बयान में पश्चाताप करते हुए अपना जुर्म स्वीकार करते हुए आरोपी रामसूरत व संचित कुमार को हए फसाने के लिए स्वयं द्वारा घटना कारित करना बताया।

Share this story