Main

Today's Paper

Today's Paper

Tarunmitra Banner

जानिए बांदा जेल भेजे जानें का ही आदेश क्यों हुआ ?

बांदा। हत्यारोपित बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी को 30 मार्च 2017 को लखनऊ से बांदा स्थित मंडल जेल में शिफ्ट किया गया था। 21 जनवरी 2019 तक मंडल जेल में रहा। इसके बाद यहां से प्रोटक्शन वारंट पर पंजाब भेजा गया, तब से वहां की जेल में था। सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को मुख्तार अंसारी को यूपी की जेल में शिफ्ट किए जाने का आदेश दिया। शुक्रवार देर शाम तक बांदा मंडल जेल प्रशासन के बाद दोबाारा मुख्तार अंसारी को शिफ्ट किए जाने का कोई आदेश तो नहीं आया था। लेकिन दोबारा शिफ्टिंग की आशंका में प्रशासन तैयारियों को लेकर अलर्ट रहा। ऐसी चर्चा जोरों पर रही। हालांकि जेल प्रशासन ने मुख्तार असंारी के शिफ्टिंग का कोई भी आदेश मिलने से साफ इनकार किया। बाहुबली विधायक ने लखनऊ जेल में हत्या की आशंका जताई थी, जिसके बाद उसे एंबुलेंस से बांदा स्थित मंडल जेललाया गया था। उसे यहां अलग कोठरी में कड़ी सुरक्षा की निगरानी में रखा गया था। सुरक्षा की दृष्टि से जेल में दो डिप्टी जेलर की अतिरिक्त तैनाती की गई थी। 

डिप्टी जेलर किए गए थे निलंबित
मुख्तार अंसारी ने बांदा मंडल जेलमें 21 माह 21 दिन बिताए थे। चर्चाओं के मुताबिक, बाहुबली विधायक को विशेष सुविधा मुहैया कराने के आरोप में तत्कालीन एक डिप्टी जेलर का निलंबन, जेल अधीक्षक और कुछ अन्य कर्मचारी भी विभागीय कार्रवाई की जद में आए थे।  

कृष्णानंद राय हत्याकांड में आरोपित 
- मुख्तार अंसारी पर बीजेपी विधायक कृष्णानंद राय की हत्या का आरोप है। उस वक्त ये जेल में बंद था। बीजेपी विधायक कृष्णानंद राय को उनके 6 अन्य साथियों को सरेआम गोलीमार उनकी हत्या कर दी गई। हमलावरों ने 6 एके-47 राइफलों से 400 से ज्यादा गोलियां चलाई थी। मारे गए सातों लोगों के शरीर से 67 गोलियां बरामद की गई थी।  इस हमले का एक महत्वपूर्ण गवाह शशिकांत राय 2006 में रहस्यमई परिस्थितियों में मृत पाया गया था। उसने कृष्णानंद राय के काफिले पर हमला करने वालों में से अंसारी और बजरंगी के निशानेबाजों अंगद राय और गोरा राय को पहचान लिया था। इससे पहले जमीनों पर कब्जे के विवाद में उनकी जंग पूर्व सांसद और बाहुबली ब्रजेश सिंह से भी हुई थी। मुख्तार के खिलाफ हत्या, अपहरण, धमकी जैसे कई मामले दर्ज हैं। 

Share this story