Main

Today's Paper

Today's Paper

डीएम ने किया फल उत्कृष्टता केन्द्र, बंजरिया का निरीक्षण,दिए निर्देश

DM inspected Fruit Center of Excellence, Banjariya, gave instructions

व्यू० का० बस्ती

खाद्य प्रसंस्करण अधिकारी का स्पष्टीकरण तलब करने का निर्देश

बस्ती - जिलाधिकारी सौम्या अग्रवाल ने भारत, इजराइल फल उत्कृष्टता केन्द्र, बंजरिया का निरीक्षण कर इससे जिले के किसानों को जोड़कर फल एंव सब्जी उत्पादन वृद्धि के लिए कार्य करने का निर्देश दिया है। उन्होने 04 करोड़ रूपये से बनने वाले किसान प्रशिक्षण केन्द्र, प्रशासनिक भवन, हास्टल एवं गारमेट्री का निर्माण शुरू कराने के लिए कार्यदायी संस्था को रिमाइण्डर भेजने का निर्देश दिया। इस केन्द्र पर उन्होने अतिविकसित इजराइल तकनीक से लगाये गये आम, अमरूद, बेल, नीबू, लीची के बाग का निरीक्षण किया।उन्होने कहा कि समय-समय पर किसानों को इस केन्द्र का भ्रमण कराया जाय। जिलाधिकारी ने 1152 वर्गमीटर में उच्च तकनीक मिट्टीबिहीन सब्जी/फल पौधशाला का निरीक्षण किया। इसकी क्षमता 10 लाख पौध प्रतिवर्ष उत्पादन की है। उन्होने दशहरी, गौरजीत, मल्लिका, लगड़ा, चैसा प्रजाति का, अमरूद में लखनऊ 49, इलाहाबाद सफेदा ललित, श्वेता, वी0एन0आर0, लालिमा, पन्त प्रभात के बाग का निरीक्षण किया।उन्होने पिछले वर्ष कोरोना काल में लोगों को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए मनरेगा योजना से रोपित आम 1200, अमरूद 1200, बेल 400, नीबू 1200, लीची 400 पौधे का बाग का निरीक्षण किया। उन्होने निर्देश दिया कि मनरेगा से ही मजदूरों को लगाकर बाग की साफ-सफाई, निराई-गुडाई कराये।
निरीक्षण में उन्होने पाया कि आम्रपाली में प्लास्टिक एवं फोम की बैगिंग देखा। इस संबंध में संयुक्त निदेशक उद्यान डाॅ0 अतुल कुमार सिंह ने बताया कि आम्रपाली की फसल 15 जुलाई तक तैयार होती है और उस समय बारिश होने से फल खराब हो जाते है। जिलाधिकारी ने केन्द्र पर स्थापित आटोमैटिक कम्प्यूटराइज सिंचाई कंट्रोल रूम का निरीक्षण किया। जिलाधिकारी ने थाइलैण्ड बेरायटी का अमरूद (वी0एन0आर0) डेªगन फ्रूट स्ट्रावेरी, पाइन एप्पल की नयी बेरायटी उत्पादित करने का निर्देश दिया। उन्होने बताया कि बंजरिया तथा बस्ती के उद्यान से प्रतिवर्ष लगभग 60 लाख रूपये राज्य सरकार को राजस्व प्राप्त होता है।उन्होने मुख्यालय पर स्थित औद्यानिक प्रशिक्षण केन्द्र का निरीक्षण किया। यहाॅ पर उन्होने 45 साल पुराने आम के पेड़ो को हटवाकर नये बेरायटी के पौधे लगवाने का निर्देश दिया। यहाॅ उन्होने प्रयोगशाला, पौधशाला, ओपेन जिम का निरीक्षण किया। उन्होने मशरूम प्रयोगशाला का निरीक्षण किया। इसके प्रभारी विवेक कुमार ने बताया कि 10 कुन्तल मशरूम का बीज पैदा करके किसानों को उपलब्ध कराया जाता है। जिलाधिकारी ने कहा कि मशरूम की डिमाण्ड और इसकी पौष्टिकता को देखते हुए इसको निजी क्षेत्र में बढावा दिया जाय तथा युवाओं को बैंक से लोन दिलाकर रोजगार दिया जाय। निरीक्षण के दौरान जिला उद्यान अधिकारी राजेन्द्र यादव, वैज्ञानिक सुरेश सिंह, डाॅ0 आरबी सिंह, धीरेन्द्र पाण्डेय उपस्थित रहें।उद्यान विभाग परिसर का निरीक्षण करते हुए जिलाधिकारी ने मण्डलीय खाद्य प्रसस्करण कार्यालय एवं केन्द्र का भी निरीक्षण किया। यहाॅ पर उपस्थित कर्मचारियों ने बताया कि खाद्य प्रसंस्करण अधिकारी दुर्गेश श्रीवास्तव सिद्धार्थ नगर गये है। जिलाधिकारी ने जब कार्यालय के साथ-साथ केन्द्र का निरीक्षण किया तो वहाॅ पर सिलेण्डरयुक्त गैस चुल्हाॅ, खाना बनाने की सामग्री तथा बर्तन आदि मेज पर सजे पाये गये। जिलाधिकारी के पूछने पर कोई भी कर्मचारी समुचित जबाव नही दे पाया। जिलाधिकारी ने इस स्थिति पर नाराजगी व्यक्त करते हुए खाद्य प्रसंस्करण अधिकारी का स्पष्टीकरण तलब करने का निर्देश दिया तथा केन्द्र का तत्काल सफाई कराने का भी निर्देश दिया।

Share this story