Main

Today's Paper

Today's Paper

मानक से कम गन्ना मूल्य भुगतान  पर संबंधित चीनी मिल प्रबंधकों को दी चेतावनी

भारतीय गन्ना किसानों को राहत देने के लिए सरकार ने चीनी कीमतों को 2 रुपये बढ़ने की दी मंजूरी, जानें अब क्या है दाम

- किसानों का शोषण तथा उनके हितों के साथ खिलवाड़ नहीं होगा बर्दाश्त - डीएम

बिजनौर। डीएम उमेश मिश्रा ने जिला गन्ना अधिकारी को बिलाई एवं बिजनौर शुगर मिल द्वारा मानक से कम गन्ना मूल्य का भुगतान करने पर संबंधित चीनी मिल प्रबंधकों को चेतावनी जारी करने तथा कम भुगतान करने पर ही नजीबाबाद सहकारी चीनी मिल प्रबंधक के विरूद्व मुख्यालय को पत्र लिखने के निर्देश दिए। उन्होंने सभी चीनी मिलों के अधिकारियों को सुझाव देते हुए कि जिला के हितार्थ आपस में सामजस्य स्थापित करते हुए कम से कम एक आक्सीजन प्लांट की स्थापना करना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि जिला बिजनौर कृषि प्रधान जिला है, जहां मुख्य फसल के रूप मंे गन्ने का उत्पादन किया जाता है। उन्होंने कहा कि स्थानीय किसानों का हित और उनकी अनेक समस्याओं का निदान समयपूर्वक गन्ना मूल्य भुगतान पर आधारित है। उन्होंने सभी गन्ना मिल प्रबंधकों को कड़े निर्देश दिए कि गन्ना मूल्य के भुगतान के सम्बन्ध में कोई भी शिथिलता बर्दाशत नहीं की जाएगी और न ही स्थानीय किसानों का शोषण क्षम्य होगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा किसानों के हितार्थ और उनकी आय को दोगुना करने सम्बन्धी अनेक योजनाएं संचालित की जा रही हैं, जिनमें गन्ना मूल्य भुगतान कार्य को विशेष महत्व दिया गया है।

डीएम अपने आवासीय कार्यालय कक्ष में गन्ना मूल्य भुगतान की प्रगति की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए उपस्थित अधिकारियों को निर्देश दे रहे थे।

समीक्षा के दौरान बुन्दकी एवं बहादरपुर चीनी मिल द्वारा कुल गन्ना क्रय के सापेक्ष किसानों को गन्ना मूल्य का भुगतान 95 प्रतिशत, स्यौहारा 80, धामपुर 79, चांदपुर 77, बरकातपुर 69, नजीबाबाद 58, बिजनौर 41 तथा चीनी मिल बिलाई द्वारा सबसे कम मात्र 30 प्रतिशत भुगतान किया जाना प्रकाश में आया। उन्होंने चेतावनी देते हुए मानक से कम गन्ना भुगतान वालों के विरूद्व दण्डात्मक कार्यवाही अमल में लाई जाएगी। उन्होंने कहा कि देश के विकास का रास्ता खेत से गुजरता है, किसानों की खुशहाली एवं उनके विकास से ही देश एवं राष्ट्र समृद्व और विकास की ओर तेजी से अग्रसर हो सकता है। उन्होंने कृषि क्षेत्र से संबंधित सभी अधिकारियों को कड़े निर्देश दिए कि किसानों की समस्याओं को गंभीरतापूर्वक लेते हुए उनका पूर्ण गुणवत्ता और तत्परता के साथ समधान करना सुनिश्चित करें। उन्होंने जिला गन्ना अधिकारी को निर्देश दिए कि प्राथमिकता के आधार पर किसानों को समयपूर्वक उनके गन्ना मूल्य का भुगतान करायाजाना सुनिश्चित करें तथा इस कार्य में अनावश्यक रूप से विलम्ब करने वाले चीनी मिल प्रबंधकों के विरूद्व नियमानुसार सख़्त कार्यवाही अमल में लाएं।

इस अवसर पर जिला गन्नाधिकारी, चीनी मिलों के प्रबंधक के अलावा अन्य संबंधित विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।

Share this story