Main

Today's Paper

Today's Paper

खाने-पीने का प्रबंध कर प्रतिदिन पुरानी जेल पर बंदरों की भूख मिटाने में लगे

bv

बुलंदशहर। भारत विकास परिषद सेवार्थ शाखा सदस्य रोजाना इंसानों के साथ पशु-पक्षियों की सेवा भी कर रहे हैं। जरूरतमंदों के खाने-पीने का प्रबंध कर प्रतिदिन पुरानी जेल पर बंदरों की भूख मिटाने में लगे हैं। जिससे उन्होंने आसपास के लोगों को काटना और गुर्राना बंद कर दिया है। कोरोना काल में लागू लाकडाउन में सब कुछ बंद होने पर लोगों के सामने आर्थिक समस्या आ गई। काम धंघा बंद होने पर गुजर बसर की दिक्कत आने लगी। ऐसे में पशु-पक्षियों को भी खाने-पीने की समस्याओं से जूझना पड़ा। जिस पर भारत विकास परिषद बुलंदशहर सेवार्थ शाखा सदस्यों ने इनके भरण-पोषण की जिम्मेदारी उठाई। कोरोना काल में रोजाना बंदरों को केले, टमाटर, चने, खीरे, रस, बिस्कुट आदि खिलाने में जुट गए। इस पुनीत कार्य में दीपू गर्ग, मोहित गर्ग, गौरव गुप्ता, अनिल बंसल, किशोर गोयल, विकास छाबड़ा, शिखा कमल, श्वेता सचदेवा, गौरव मित्तल, कामना मित्तल, प्रीति अग्रवाल, मधु बंसल आदि का सहयोग रहा।

डिबाई में एसडीएम मोनिका सिंह ने कहा कि लाकडाउन से छूट मिलने पर व नगर के बाजार खुलने पर व्यापारियों को कोविड के नियमों का पालन करना अनिवार्य होगा। दुकान पर सामान लेने आने वाले व्यक्ति को मास्क लगाना व शारीरिक दूरी का पालन करना होगा। कोरोना संक्रमण के चलते करीब एक माह पूर्व जनपद में लाकडाउन लागू किया गया था। कोरोना संक्रमण के मरीजों की संख्या कम होने के बाद शासन ने सात जून यानि सोमवार से लाकडाउन को हटा दिया गया है, लेकिन कोविड के नियमों का पालन करना अनिवार्य होगा। इस बाबत एसडीएम मोनिका सिंह ने बताया कि सोमवार से बाजार खुल रहे है। उन्होंने कहा कि व्यापारियों को कोविड के नियमों का पूरी तरह से पालन करना होगा।

Share this story