Main

Today's Paper

Today's Paper

ब्राह्मण चेतना परिषद ने की जितिन प्रसाद को हटाने की मांग

ब्राह्मण चेतना परिषद ने की जितिन प्रसाद को हटाने की मांग

झाँसी। उत्तर प्रदेश ब्राह्मण चेतना  परिषद ने संस्था के संरक्षक और पूर्व कांग्रेस नेता जितिन प्रसाद के भाजपा में शामिल होने पर उन पर ब्राह्मण समुदाय को धोखा देने का आरोप लगाते हुए संस्था से निष्कासित करने की मांग की है। 

      झांसी में परिषद की जिला स्तरीय बैठक में यह मांग करते हुए इस बारे में प्रस्ताव भी पास कर केन्द्रीय समिति को भेजा गया। अध्यक्षयीय उद्धबोधन में चंद्रशेखर तिवारी ने कहा कि ब्राह्मणों पर हो अत्याचार, ब्राह्मणों की  रक्षा एवं न्याय दिलाने के लिये समिति का गठन किया गया था जिसका जतिन प्रसाद को संरक्षक मनोनीत किया गया था। चेतना परिषद द्वारा सदैव ब्राह्मणों के हितों की रक्षा के लिए संघर्ष ही किया गया परंतु भाजपा के प्रलोभन में आकर जितिन प्रसाद ने भाजपा की  सदस्यता ग्रहण कर ब्राहमण  समाज के हितों को नज़र अंदाज़ कर ब्राहमण वोटों को बेचने का  कुत्सित प्रयास किया जिसे ब्राहमण चेतना परिषद बर्दाश्त नही करेगी।

  जितिन प्रसाद के उक्त कृत्य से ब्राहमण समाज की भावनाएं आहत हुई। ब्राह्मण चेतना परिषद के केन्द्रीय नेतृत्व से ज़िला कार्यकारिणी झांसी यह मांग करती हैं कि जितिन प्रसाद को तत्काल प्रभाव से ब्राहमण चेतना परिषद से सभी पदों से निष्काषित किया जाए अन्यथा जिले की समस्त कार्यकारिणी एक मत होकर त्यागपत्र देने के लिये बाध्य होगी।

यही स्थिति उत्तर प्रदेश के समस्त  ज़िलों को इकाइयों की कार्यकारिणियों की है। संचालन राजेन्द्र शर्मा वआभार रघुराज शर्मा ने किया।

         बैठक में  राजीव रिछारिया, सलिल रिछारिया, बृजमोहन तिवारी(भूरे महाराज) डॉ विजय भारद्वाज, पंकज मिश्रा नोटा, ललित परासर, विवेक बाजपेई, जगमोहन मिश्रा, आशीष रिछारिया, सी.डी. लिटौरिया, बृजबिहारी उदैनिया, प्रदीप तिवारी ,अनिल दीक्षित,राजीव बबेले, केके दुबे, राजेन्द्र पांडेय, हरीश रावत, महेश रावत ,अजय मिश्रा एडवोकेट, राकेश त्रिपाठी राजेन्द्र चतुर्वेदी आदि  ने बैठक में सहभागिता निभाई।

Share this story