Main

Today's Paper

Today's Paper

आत्ममंथन योजना के जरिए करेंगे मंडलीय विकास कार्यों की समीक्षा आयुक्त

आत्ममंथन योजना के जरिए करेंगे मंडलीय विकास कार्यों की समीक्षा आयुक्त

झाँसी। मंडल में विकास कार्यों की असलियत जानने के लिए आयुक्त अजय शंकर पाण्डेय ने मण्डल के तीनों जनपदों झाँसी, ललितपुर जालौन में ‘‘आत्म मंथन एवं एक्सपीरियन शेयरिंग सप्ताह’’ के तहत विकास कार्यों का जायजा लेंगे। सभी महत्वपूर्ण विकास कार्यक्रमों में जिन विभागों की प्रगति कम है उन विभागो को कमिश्नर की ओर से सुझावात्मक पत्र प्रेषित किया जायेगा जिसमें सम्बन्धित अधिकारी स्वयं ईमानदारी से बतायेंगे कि किस स्तर पर कठिनाई आ रही है ? इसके अतिरिक्त जिसके द्वारा अच्छा कार्य किया जा रहा है तो उसका मॉडल अन्य अधिकारियों के लिये प्रेरणादायक होगा।

कमिश्नर ने संयुक्त विकास आयुक्त को निर्देश दिये है कि सम्बन्धित विभागों को तीन-चार दिन का समय देते हुये पुनः प्रगति के सम्बन्ध में जानकारी की जाये यदि प्रगति में सुधार नही आये, तो सम्बन्धित विभाग के अधिकारी से दूरभाष से वार्ता करायी जाये। यदि फिर भी कार्यक्रम में प्रगति परिलक्षित नही होती है तो सम्बन्धित अधिकारी के विरुद्व शासन को पत्र प्रेषित किया जाये। उन्होने यह भी निर्देश दिये कि सभी विभागीय अधिकारी से उनके विभाग के कार्यक्रमों में सबसे अच्छे विकास कार्य करने वाले ग्राम एवं सबसे खराब प्रगति वाले ग्राम की जानकारी प्राप्त की जाये, उन ग्रामों का भ्रमण कमिश्नर द्वारा किया जायेगा।

कमिश्नर ने उपायुक्त आबकारी को निर्देश दिये है कि जहरीली शराब, अवैध शराब, तस्करी, ओवर रेटिंग के सम्बन्ध में आकस्मिक चैकिंग अभियान चलाया जाये जिसके लिये जनपद एवं तहसील स्तर पर पुलिस, राजस्व अधिकारी, आबकारी अधिकरियों की संयुक्त टीम बनाकर सघन चैकिंग करायी जाये। इसी प्रकार ग्राम स्तर पर ग्राम प्रधान, ग्राम चैकीदार एवं लेखपाल द्वारा टीम बनाकर कार्यवाही की जाए। 

वृक्षारोपण के सम्बन्ध में कमिश्नर ने वन संरक्षक को निर्देश दिये कि मण्डल में सभी विभागों को लक्ष्य के अनुसार वृक्षारोपण हेतु पत्र प्रेषित किया जाये। वृक्षारोपण हेतु वन विभाग का 14 करोड़ एवं 60 करोड़ अन्य विभागों का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। वृक्षारोपण कार्यक्रम की संयुक्त विकास आयुक्त द्वारा प्रतिदिन प्रगति की मॉनीटरिंग की जायेगी। उन्होने संयुक्त कृषि निदेशक को निर्देश दिये है कि कृषि विभाग में कम प्रगति वाले कार्यक्रमों को चिन्हित कर अवगत करायें।

Share this story