Main

Today's Paper

Today's Paper

शीला दीक्षित ने किया दिल्ली का अकल्पनीय विकास

दूसरी पुण्यतिथि पर किया गया याद   बरूआसागर(झाँसी)। कांग्रेसियों ने दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित की द्वितीय पुण्यतिथि पर याद करते हुए कहा कि दिल्ली के आधुनिक विकास की वे सूत्रधार थीं। इस अवसर पर आयोजित संगोष्ठी की अध्यक्षता  डाॅ सुनील तिवारी ने की जिसका विषय  " दिल्ली के विकास में शीला दीक्षित की भूमिका" रहा। कांग्रेस जनों ने शीला दीक्षित को पुष्पाजंलि अर्पित की। अपने अध्यक्षीय उद्बबोधन में डाॅ सुनील तिवारी ने कहा कि जब शीला दीक्षित ने दिल्ली के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली, तब से ही दिल्ली के अकल्पनीय विकास ने आकार लेना शुरू किया। चाहे मेट्रो ट्रेनों के संचालन की बात हो या फिर विश्व स्तरीय काॅमनवेल्थ गेम्स को लेकर , सम्पूर्ण दिल्ली के कायाकल्प करने की बात हो, शीला जी एक दृढ स्तम्भ की तरह,विकास के साथ खडी रही ।  संगोष्ठी को सम्बोधित करने वाले वक्ताओं में रवि प्रकाश पुरोहित, नगर पालिका के पूर्व उपाध्यक्ष उमाशंकर पाण्डेय, कांग्रेस के नगर अध्यक्ष प्रमोद राय, विनोद जैन,आनन्द विरथरे, प्रमोद यादव,संजीव चौबे, संतोष मिश्रा, डाॅ राजीव पुरोहित, धीरेन्द्र चतुर्वेदी आदि प्रमुख रूप से शामिल रहे। संगोष्ठी का संचालन जय प्रकाश विरथरे और आभार ज्ञापन कार्यक्रम की संयोजिका राशि साहू द्वारा किया गया।
दूसरी पुण्यतिथि पर किया गया याद 
बरूआसागर(झाँसी)। कांग्रेसियों ने दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित की द्वितीय पुण्यतिथि पर याद करते हुए कहा कि दिल्ली के आधुनिक विकास की वे सूत्रधार थीं। इस अवसर पर आयोजित संगोष्ठी की अध्यक्षता डाॅ सुनील तिवारी ने की जिसका विषय " दिल्ली के विकास में शीला दीक्षित की भूमिका" रहा।
कांग्रेस जनों ने शीला दीक्षित को पुष्पाजंलि अर्पित की। अपने अध्यक्षीय उद्बबोधन में डाॅ सुनील तिवारी ने कहा कि जब शीला दीक्षित ने दिल्ली के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली, तब से ही दिल्ली के अकल्पनीय विकास ने आकार लेना शुरू किया। चाहे मेट्रो ट्रेनों के संचालन की बात हो या फिर विश्व स्तरीय काॅमनवेल्थ गेम्स को लेकर , सम्पूर्ण दिल्ली के कायाकल्प करने की बात हो, शीला जी एक दृढ स्तम्भ की तरह,विकास के साथ खडी रही । संगोष्ठी को सम्बोधित करने वाले वक्ताओं में रवि प्रकाश पुरोहित, नगर पालिका के पूर्व उपाध्यक्ष उमाशंकर पाण्डेय, कांग्रेस के नगर अध्यक्ष प्रमोद राय, विनोद जैन,आनन्द विरथरे, प्रमोद यादव,संजीव चौबे, संतोष मिश्रा, डाॅ राजीव पुरोहित, धीरेन्द्र चतुर्वेदी आदि प्रमुख रूप से शामिल रहे। संगोष्ठी का संचालन जय प्रकाश विरथरे और आभार ज्ञापन कार्यक्रम की संयोजिका राशि साहू द्वारा किया गया।

Share this story