Main

Today's Paper

Today's Paper

Tarunmitra Banner

पत्‍ता भी हिलेगा तो योगी सरकार को पता चलेगा...

लखनऊ। माफिया मुख्‍तार अंसारी की बैरक में अब पत्‍ता भी हिलेगा तो सूबे की योगी सरकार को पता चल जाएगा। सरकार ने अंसारी पर चौबीसों घंटे निगरानी का पूरा प्‍लान बनाया है जिसे पिछले कुछ दिनों में यूपी के सबसे काबिल और वरिष्‍ठ अफसरों ने बांदा जेल में लागू कर दिया है। बांदा जेल में मुख्‍तार अंसारी को बाकी कैदियों से अलग बैरक नंबर-15 में अकेले रखा गया है जहां सीसीटीवी कैमरों से हर पल उन पर बांदा से लखनऊ तक कई आंखों की नज़र है। लखनऊ कमांड से सीधे मुख्‍तार की निगरानी की जा रही है। 

अपने शातिराना दिमाग और अपराध की दुनिया में महारत के नाते पूर्वांचल में दशकों तक दहशत का पर्याय रहे मुख्‍तार अंसारी के गुर्गों के लिए अब जेल में उनसे मिलकर साजिशें रचना आसान न होगा। जेल में मुख्‍तार से कब कौन मिलने आया, इसकी पूरी जानकारी सरकार के पास होगी। यही नहीं मिलने आए हर शख्‍स की पूरी पृष्‍ठभूमि, वर्तमान और भूत का सरकार पता लगाएगी और रिकार्ड अपने पास सुरक्षित रखेगी। मुख्‍तार को लेकर यूपी सरकार और पुलिस-प्रशासन कितना सतर्क है इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है बांदा में घर-घर किराएदारों के सत्‍यापन का आदेश दिया गया है। बांदा के तमाम होटलों में ठहरे हुए लोगों के बारे में पूरी जानकारी जुटाई जा रही है। पुलिस ने होटल संचालकों से कहा है कि अपने हर अतिथि के बारे में पूरी जानकारी साझा करें। 

दो डिप्‍टी जेलर, पीएसी तैनात 

बांदा जेल में मुख्‍तार पर निगरानी और उसकी सुरक्षा के लिए कड़े इंतजाम किए गए हैं। जेल में दो डिप्‍टी जेलरों की तैनाती के साथ पीएसी की टुकड़ी भी तैनात की गई है। कुल मिलाकर ऐसे इंतजाम किए गए हैं कि बांदा जेल के आसपास बिना इजाजत कोई फटक भी न पाए। 

मुख्‍तार पर हो रही हर कार्रवाई पर सीएम योगी की भी नज़र 
डॉन मुख्तार अंसारी और उसके गुर्गों पर हुई हर कार्रवाई पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की बराबर नजर रही है। मंगलवार को मुख्‍तार के यूपी की सीमा में पहुंचते ही अपर मुख्‍य सचिव गृह और डीजीपी ने खुद मुख्‍यमंत्री को पूरी जानकारी दी। दरअसल, जीरो टॉलरेंस नीति के तहत चल रही यूपी पुलिस ने मुख्तार और उसके गुर्गों के खिलाफ पहले भी जो कार्रवाई की है, सीएम योगी को उसकी पूरी जानकारी दी जाती रही है। पुलिस ने अब तक मुख्‍तार के कब्‍जे में रही 192 करोड़ से ज्यादा कीमत की सरकारी जमीन खाली कराई और संपत्तियां जब्त कीं। इसमें ध्वस्तीकरण की कार्रवाई भी शामिल है।

मुख्‍तार गिरोह के 96 सदस्‍य किए जा चुके हैं गिरफ्तार 
पुलिस ने गिरोह के 96 सदस्यों को गिरफ्तार किया है। 75 अपराधियों के खिलाफ गैंगेस्टर एक्ट के तहत कार्यवाही भी की गई है। माफिया और उसके गैंग के 72 शस्त्र लाइसेंस निरस्त और निलंबित किए गए हैं। पीडब्ल्यूडी और कोयले की ठेकेदारी करने वाले सात सहयोगियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर शस्त्र लाइसेंस निलंबित किए गए हैं। छह अन्य ठेकेदारों का चरित्र प्रमाण पत्र निरस्त किया गया है। गुंडा एक्ट के तहत 12 अपराधियों को जिला बदर किया गया है।

माफिया की पत्‍नी और दो सालों पर भी है केस
पुलिस ने माफिया की पत्नी अफसा अंसारी और दो साले सरजील रजा, अनवर शहजाद के खिलाफ गाजीपुर में कुर्क की गई जमीन पर अवैध कब्जा करने पर मुकदमा दर्ज किया है। कब्जा मुक्त जमीन की कीमत करीब 18 लाख है और क्षतिपूर्ति के रूप में लगभग 26.5 लाख रुपये की वसूली की जा रही है। पुलिस ने माफिया की पत्नी और बेटों अब्बास अंसारी व उमर अंसारी सहित 12 लोगों के खिलाफ जालसाजी कर पट्टे की जमीन हड़प कर होटल बनाने पर मुकदमा किया है। साथ ही पत्नी व साले के खिलाफ गैंगेस्टर में भी मुकदमा किया गया है। इनके कब्जे से करीब 2.75 करोड़ की जमीन खाली कराई गई है।

वायरलेस सेट व एक बुलेट प्रूफ फाच्र्यूनर कार बरामद
लखनऊ पुलिस ने मुख्तार के सहयोगी हरविंदर सिंह उर्फ जुगनू की दो करोड़ 31 लाख 46 हजार की संपत्ति जब्त की है। डालीबाग में मुख्तार के 25-25 हजार के इनामी दो बेटों अब्बास और उमर अंसारी के अवैध रूप से बने दो टावर को जमीदोज कर खाली कराया है, जिसकी कीमत पांच करोड़ है। पुलिस ने माफिया के अन्य सहयोगियों के ठिकानों पर दबिश में मोबाइल, पांच वायरलेस सेट, छह बैट्री, एक बुलेट प्रूफ फाच्र्यूनर कार, तीन अवैध असलहे और 24 टिफिन बरामद किए हैं।

इन्हें किया गया जिला बदर
पुलिस ने गिरोह के 12 अपराधियों अल्तमश, अनीस, मोहर सिंह, जुल्फेकार कुरैशी, तारिक, मो. सलमान, आमिर हमजा, मो. तलहा, जावेद आरजू, मो. हाशिम, राशिद और अनुज कनौजिया को छह माह के लिए जिला बदर किया है। साथ ही 10 अपराधियों के खिलाफ गुण्डा एक्ट के तहत कार्यवाही की है।  

 

Share this story