Main

Today's Paper

Today's Paper

एक महिला की मौत, कई का चल रहा है अस्पताल में इलाज
 

b v
मथुरा। अक्रूर जी के गांव में देवशयनी एकादशी को मंगल को अमंगल हो गया। गांव में चीख पुकार मच गई। हर किसी के चहरे पर दहशत थी और मिट्टी की ढाय के नीचे दबी महिलाओं की जिंदगी के लिए लोग दुआ कर रहे थे। करीब दो घंटे तक चले रेस्क्यिू के बाद मिट्टी से महिलाआंे को निकाल तो लिया गया लेकिन सभी की जान नहीं बचाई जा सकी। एक महिला की मौत हो गई जबकि कई का उपचार अस्पताल में चल रहा है।
 वृंदावन के गांव अक्रूर में देवशयनी एकादशी पर पूजा में इस्तेमाल होने वाली मिट्टी लेने के लिए गांव की महिलाएं जंगल की ओर पहुंच गईं। जंगल में मिट्टी के टीले के निचले भाग से खोद कर महिलाएं जय बिहारी की पत्नी रेनू, लवकुश की पत्नी आशा, हाकिम की पत्नी विमलेश, वकील की पत्नी रजनी, परसो की बेटी ललिता, मोहनलाल की बेटी राधा तथा नन्हीं की बेटी सावित्री मिट्टी निकाल ही रही थीं। तभी अचानक मिट्टी की भारीभरकम ढाय खिसल लगई और सभी महिलाएं मिट्टी के नीचे दब गईं। 28 वर्षीय रेनू को चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। जबकि आशा, रजनी, विमलेश व सावित्री का उपचार चिकित्सकों द्वारा किया जा रहा है। सोमवार को दिनभर हुई बरसात की वजह से मिट्टी भारी हो गई थी। जगह जगह से पानी रिसाव के चलते कमजोर भी थी। जैसे ही महिलाओं ने मिट्टी खोदन शुरू किया मिट्टी की ढाय भरभरा कर उनके उपर आ गिरी।  राधा और ललिता नामक दो किशोरी कुछ दूरी पर खडी थीं। वह ढाय की चपेट में आने से बच गईं। दोनों किशोरियों ने गांव की ओर दौड लगा दी और ढाय गिरने की ग्रामीणों को सूचना दी। कुछ ही देर में बडी संख्या में ग्रामीण घटना स्थल पर एकत्रित हो गए। एक जेसीबी की मदद से मिट्टी हटाने का काम शुरू कर दिया। घटनास्थल पर ग्रामीणों की भीड़ मौजूद है। वहीं पुलिस प्रशासन की टीम भी बचाव अभियान पर नजर रखे है। नगर निगम के अपर नगर आयुक्त और कोतवाली प्रभारी भी घटना स्थल पर पहुंच गए। दो जेसीबी की मदद से करीब करीब दो घंटे चले रेस्क्यिू अभियान के बाद सभी महिलाओं को बाहर निकाला गया। इस बीच एम्बूलेंस को भी मौके पर बुला लिया गया गया था। जैसे जैसे महिलाओं को बाहर निकाला गया उन्हें तत्काल अस्पताल पहुंचाने की व्यवस्था की गई। जिला संयुक्त चिकित्सालय लाई गई महिला आशा, रजनी व बालिका सावित्री की हालत जहां गंभीर बनी हुई है। वहीं रेणु की इलाज के दौरान मृत्यु हो गई। रेनू के भतीजे राजेंद्र ने बताया कि पूजा के लिए मिट्टी लेने गई थी इसी दौरान हादसा हो गया रेणु की मौत की खबर मिलते ही परिजनों में कोहराम मच गया।

Share this story