Main

Today's Paper

Today's Paper

सीसीटीवी में कार पर गोलियां दागते दिखे पुलिस के जवान, BJP नेता का आरोप

शामली। उत्तर प्रदेश के शामली में भाजपा के एक नेता ने पुलिस पर आरोप लगाया है कि पुलिस ने उनकी कार पर फायरिंग की। जिससे एक व्यक्ति घायल हो गया। नेता ने बताया कि पुलिस ने उन्हें रात भर हिरासत में रखा। नेता ने आरोप लगाया कि उनकी हत्या करने के लिए पुलिस ने सुपारी ली थी। मामले पर वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने कहा कि घटना की जांच के आदेश दिए गए हैं।



शामली के रहने वाले भाजपा नेता अश्वनी पवार ने बताया कि वे कुछ लोगों के साथ अपनी गाड़ी में सवार थे। जब उनकी कार दिल्ली-सहारनपुर रोड पर थी तो अचानक एक पुलिस टीम ने उनकी कार पर फायरिंग की। सीसीटीवी फुटेज में देखा जा सकता है कि कार की रफ्तार धीमी पड़ जाती है और कार सड़क के बीच में रुक जाती है। पुलिस कर्मियों ने सादे कपड़े पहने हुए थे। वीडियो में देखा जा सकता है कि पुलिस वाले गाड़ी की तरफ बढ़ रहे हैं। कुछ देर बाद गाड़ी में सवार लोग कार को तेजी से भगा ले जाते हैं।

नेता ने बताया, ‘मेरे बच्चों ने रेस्तरां में खाना खाने की जिद की तो हम बाहर गए थे। एक पेट्रोल पंप पर मैंने पेट्रोल भरा। हालांकि जब वहां से निकला तो मुझे महसूस हुआ कि कार्ड-स्वाइपिंग मशीन अभी भी कार की छत पर है। इसलिए मैंने कार रोकी और पेट्रोल पंप अटेंडेंट को बुलाया।”नेता ने कहा, “तभी मैंने एसओजी को अपनी कार की ओर आते हुए देखा, जिनके हाथ में पिस्तौल थी। उन्होंने गोलीबारी शुरू कर दी। मैंने जल्दी से बाहर निकल कर देखा। तब तक वे 10-15 राउंड फायर कर चुके थे।

”पवार के साथ कार में यात्रा कर रहे चार लोगों में से एक मनीष कुमार गोली लगने से घायल हो गए, जबकि तीन गोलियां कार में लगीं।पवार ने आरोप लगाया है कि बाद में पुलिस उनके घर पहुंची और उन्हें पुलिस स्टेशन ले गई, जहां उन्हें रात भर परेशान किया गया। पुलिस ने फर्जी मामले दर्ज करने की धमकी भी दी।नेता ने कहा, “सुबह तक, मेरे समर्थक भारी संख्या में पहुंचे और इस तरह मैं बच गया।” 

“उन्होंने (पुलिस) मेरे दुश्मनों से पैसे लिए और मुझे मारने की साजिश रची।” भाजपा नेता ने मामले की जांच की मांग की है।शामली के पुलिस अधीक्षक सुकीर्ति माधव ने घटना का जिक्र करते हुए कहा, “आरोप गंभीर हैं। हम सभी तथ्यों को ध्यान में रख रहे हैं और जांच के बाद जो सामने आएगा, उसके आधार पर हम कार्रवाई करेंगे।”

Share this story