Main

Today's Paper

Today's Paper

कोरोना की तीसरी वेव से बच्चों को सुरक्षित रखने का लक्ष्य

Help China to reach the root of Corona
संक्रमण के चलतेे बीस हजार बच्चों को नहीं लग पाई थी वैक्सीन
उन्नाव, 11 मई (तरुणमित्र)। कोरोना की रफ्तार जैसे जैसे धीमी हो रही है वैसे वैसे स्वास्थ महकमा टीकाकरण को गति देने का काम कर रहा है। लाॅकडाउन के दौरान जो बच्चे छूट गये उनका टीकाकरण कराये जाने पर भी लगातार बल दिया जा रहा है। इसके साथ ही रुटीन टीकाकरण अभियान को भी बल दिया जा रहा है। जिले में दो माह में बीस हजार बच्चों को कोरोना संक्रमण की वजह से वैक्सीन नहीं लग सकी थी।  हेपेटाइटिस बी, बीसीजी, पोलियो, डीपीटी टीबी जैसी संक्रामक बीमारियों से बचाने के लिए बच्चों को जन्म के बाद वैक्सीन लगाई जाती है। स्वास्थ्य विभाग रूटीन टीकाकरण कार्यक्रमों में बच्चों को वैक्सीन लगाकर प्रतिरक्षित करता है। हालांकि कोरोना संक्रमण की वजह से रूटीन टीकाकरण कार्यक्रम में जिले में प्रभावित हो गया था। इससे जन्म से लेकर डेढ़ साल तक के 20 हजार बच्चों को वैक्सीन नहीं लग पाई थी। वैक्सीन लगने के पीछे प्रमुख वजह यह थी कि स्वास्थ्य कर्मी कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए चलाए जा रहे अभियान में व्यस्त थे। हालांकि संक्रमण कम होने के बाद अब शासन ने रूटीन टीकाकरण कार्यक्रम को रफ्तार देने के निर्देश दिए हैं। सभी सीएचसी पीएचसी व जिला अस्पताल के अलावा गांव गांव जाकर कैंप लगाने के निर्देश स्वास्थ्य अधिकारियों को दिए गए हैं। स्वास्थ्य अधिकारियों के अनुसार माइक्रो प्लान बनाकर टीकाकरण कार्यक्रम शुरू किया जाएगा। इसमें सबसे पहले उन बच्चों को शामिल किया जाएगा जिन्हें किन्हीं कारणों की वजह से टीका नहीं लग सका है।

Share this story