Wednesday, December 8, 2021 at 3:05 PM

शिविर में पहुंचे लोगों का रजिस्ट्रेशन कराते हुए उन्हें टीके लगाए गए

बुलंदशहर ।  बुधवार को मोहल्ला पंजाबियान बारादारी में भागमल धर्मार्थ सेवा ट्रस्ट के सहयोग से टीकाकरण शिविर लगाया गया। शिविर की शुरूआत में मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र के लोगों को टीकाकरण के प्रति जागरूक किया गया। जिसके बाद शिविर में काफी संख्या में लोग पहुंचे और उन्होंने कोरोना से बचाव के लिए टीके लगवाए। शाम तक शिविर में 220 लोगों को कोरोना से बचाव के लिए टीका लगाए गए। साथ ही उनसे मास्क पहनने समेत अन्य बचाव के नियमों का पालन करने की अपील की गई। इसमें एएनएम ऊषा सिंह, सुमन, नीरज कुमार, भजनलाल, रविद्र कुमार, संजीव कुमार, रंजना सिंह, कैलाश भागमल गौतम आदि रहे। मार्गशीर्ष मास में श्रद्धा और भक्ति का मिलेगा फल मार्गशीर्ष मास भगवान श्री कृष्ण की भक्ति के लिए उत्तम माना जाता है। श्रद्धा और भक्ति के इस पावन मास में नदी में स्नान और दान-पुण्य का भी फल मिलता है। माता-पिता, गुरु की सेवा करने से भगवान लक्ष्मी नारायण की कृपा भी बरसती है। इस बार 20 नवंबर रविवार से प्रारंभ होकर यह मास 19 दिसंबर तक रहेगा। सुबह उठकर नदी में स्नान करके भगवान बासुदेव की पूजा-अर्चना करने पर सुखों की प्राप्ति होगी।

ज्योतिषाचार्य पं. मुकेश मिश्रा के अनुसार भगवान श्री कृष्ण ने मार्गशीर्ष मास की महत्वा गोपियों को बताई थी। उन्होंने कहा था कि महीनों में मार्गशीर्ष मैं ही हूं। इस माह में यमुना स्नान से मैं सहज सभी को प्राप्त हो जाऊंगा। तभी से इस माह में नदी स्नान का खास और भगवान कृष्ण की आराधना के लिए उत्तम माना गया है। पुराणों के अनुसार मार्गशीर्ष माह से ही सतयुग की स्थापना हुई थी। महर्षि कश्यप ने भी इसी महीने में कश्मीर राज्य की स्थापना की थी। इसी महीने में भगवान श्री कृष्ण ने कुरुक्षेत्र के मैदान में अर्जुन को गीता का उपदेश दिया था। इसलिए गीता जयंती भी इसी महीने में मनाई जाती है। इस मास में गीता का पाठ भी मोक्ष कारक माना गया है। ज्योतिष के अनुसार 27 नक्षत्रों में से एक मृगशिरा नक्षत्र इस माह की पूर्णिमा को पड़ता है।