मोदी-योगी सरकार के भ्रष्टाचार-लापरवाही से हुई स्वामी सानंद की हत्या : कांग्रेस

लखनऊ। गंगा की अविरलता और निर्मलता को बनाए रखने के लिए विशेष एक्ट पास कराने की मांग को लेकर बीती 22 जून से आमरण अनशन पर बैठे स्वामी ज्ञान स्वरूप सानंद (प्रो. जीडी अग्रवाल) का गुरुवार दोपहर बाद एम्स ऋषिकेश में निधन हो गया। डॉक्टरों का कहना है कि कमजोरी और हार्ट अटैक से स्वामी सानंद का निधन हुआ। स्वामी सानंद की मृत्यु के बाद प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी ने गंगा सफाई से जुड़े तीन अभियन्ताओं का निलम्बित कर दिया है। इसे जनता की आंखों में धूल झोंकने का काम बताते हुए कांग्रेस ने सरकार को इस कार्य के लिए जनता से माफी मांगने की मांग की है।
कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता मुकेश सिंह चैहान ने अपने बयान में कहा गंगा सफाई अभियान के लिए आंदोलनरत वयोवृद्ध आईआईटी के प्रोफेसर स्वामी सानंद की गंगा सफाई में हो रहे भ्रष्टाचार और लापरवाही के चलते हत्या हुई ह,ै जिसका दाग योगी सरकार और मोदी सरकार पर है। उन्होंने कहा कि वोट के लिए मां गंगा के नाम पर देश की भावनाओं से खेलने वाले पीएम मोदी को गंगा मैया अवश्य दण्ड देंगी।
उन्होंने कहा कि हकीकत में राम मंदिर से लेकर गंगा सफाई तक पर भाजपा ने जनता को गुमराह करने और झूठ बोलने के सिवाय कुछ नहीं किया है। प्रवक्ता ने कहा कि गंगा सफाई के नाम और नारे पर सत्ता में आयी भाजपा सरकार साढ़े चार साल तक कुछ न पाने के लिए अब अधिकारियों पर कार्रवाई कर अपने पाप धोना चाहती है।
उन्हांने कहा कि पूर्व में केन्द्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती ने भी कहा था कि 2019 तक यदि गंगा सफाई नहीं हो जाती तो वह राजनीति से संन्यास ले लेंगी, नहीं तो अपनी जल समाधि ले लेंगी। ऐसे में सानंद स्वामी की मौत ने एक बार फिर देश की अवाम को गंगा सफाई में हो रहे भ्रष्टाचार की ओर ध्यान आकृष्ट करा दिया है।

=>
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com