कटिया लगाकर रोशन हो गये सैकड़ों पटाखों की दुकान

मूक दर्शक बने हुए है बिजली विभाग के जिम्मेदार

लखनऊ। बिजली कर्मियों की मिलीभगत से राजधानी के विभिन्न इलाकों में सज कर तैयार हुये पटाखों की दुकाने चोरी की बिजली से रोशन हो रहे है। त्यौहार के मौके पर लगे इन दुकानों पर टयूबलाइट से लेकर बड़े-बड़े हाइलोजन भी खुलेआम जल रहे है, लेकिन सैकड़ों दुकानों पर कटिया मारकर जलायी जा रही बिजली के मामले पर जिम्मेदार आंखे मूंद कर किसी हादसे का इंतजार करते नजर आ रहे है।


बताते चले कि राजधानी के चिनहट, विभूति खंड गुडम्बा, आलमबाग समेत कई इलाकों में एक निर्धारित जगह पर इस समय दर्जनों पटाखों की दुकान सजी हुई है। इन बड़ी-बड़ी दुकानों पर छोटे बल्व लेकर लाइट के लिये भारी भरकम हाइलेाजन भी लगाये गये है। गौरतलब हो कि विभाग में अस्थाई कनेक्शन की प्रक्रिया है लेकिन नियमों-कानून को ताख पर रख कर इन पटाखा दुकानों पर कटिया मार कर बिजली जलायी जा रही है। चिनहट के कठौता झील के किनारे करीब दो दर्जन से अधिक दुकाने लगी है। इन दुकानों पर देखा जाये तो प्रति दुकानों पर दो से चार तक के हाइलोजन जल रहे है।

इसी तरह से मोहनलालगंज के काशीश्वर इंटर कालेज में भी पटाखों की दुकान लगाये जा रहे है। यहां करीब तीन दर्जन से अधिक दुकाने लगी है और दुकानों में बिजली की व्यवस्था कटईया लगा कर की गयी है। इटौजा के अशोक मार्ग पर काफी बड़ी संख्या में दुकाने लगती हैं। सूत्रों के मुताबिक इन दुकानों पर बिजली की व्यवस्था कराने के लिये स्थानीय विजली कर्मियों का पूरा समर्थन पहले ही प्राप्त कर लिया जाता है। इसी तरह से बीकेटी में बीकेटी इंटर कालोज में लगी करीब तीन दर्जन पटाखों की दुकानों का भी यही हाल है।
बताते चले कि राजधानी में बीते वर्षों में बिजली के शार्ट सर्किट से पटाखों के दुकान में आग लगने की कई घटनाएं घट चुकी है। जिस पर जिला प्रशासन भी इसे लेकर काफी चौकसी बरतने लगता है लेकिन समय गुजरने के साथ साथ प्रशासन इन महत्वपूर्ण बिन्दुओं को दरकिनार कर देता है। जिसका परिणाम घातक साबित होता है।

=>
loading...
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
E-Paper