हरदोई- कार्यवाहक अध्यक्ष, प्रभारी कांग्रेस पर लगाए वसूली के आरोप

कांग्रेस कार्यालय पर युवक कांग्रेस की महासचिव सुमित्रा मित्रा का छलका दर्द

कहा- सक्रिय कार्यकर्ताओं से टिकट दिलाने के नाम पर मठाधीशों ने की जमकर वसूली

दल बदलू आयातित प्रत्याशी को लाए जाने से नाराज हैं कांग्रेसी कार्यकर्ता

हरदोई- वैसे तो कहा जाए हरदोई में कांग्रेस का अस्तित्व वैसे भी ना के बराबर था किंतु जिला अध्यक्ष डॉ राजीव लोध और आशीष सिंह सोमवंशी के अलग अलग प्रयासों से कांग्रेस में जान आने लगी थी ।राज्य कांग्रेस यहां स्थाई रूप से जिला अध्यक्ष नियुक्त ना कर सका और अपनी अपनी ढपली अपना अपना राग यहां के मठाधीश करते रहे। निचले स्तर के संगठन को मजबूती देने में जहां महिलाओं ने विशेष रूप से अपनी भूमिका निभाई जिसमें युवक कांग्रेस की जिला महासचिव सुमित्रा मित्रा और शहर महिला कांग्रेस अध्यक्ष श्रीमती सुनीता देवी के प्रयास लगातार सराहनीय रहे ।कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने जहां सक्रियता दिखाकर एक सोई पड़ी कांग्रेस को जागृत किया तो एहसास हो चला था कि दावेदारी भी सक्रिय कार्यकर्ताओं को दिया जाएगा पर ऐसा नहीं हुआ। अंतिम समय में दूसरे दल में रहे वीरेंद्र वर्मा को लोकसभा का प्रत्याशी बना दिया गया। जिससे सक्रिय कांग्रेस कार्यकर्ताओं में निराशा पनपी, यही कारण था कि आज पार्टी कार्यालय पर सुमित्रा मित्रा व अन्य लोगों द्वारा जमकर आरोप प्रत्यारोप लगाए गए ।

जिला महासचिव युवक कांग्रेस और पूर्व जिला पंचायत सदस्य सुनीता मित्रा ने कांग्रेस कार्यालय पर आए प्रत्याशी वीरेंद्र वर्मा और राजीव लोध तथा अन्य वरिष्ठ कांग्रेसियों के समक्ष अपना विरोध दर्ज कराते हुए कहा कि हमें प्रत्याशी से कोई विरोध नहीं है ना ही कांग्रेस का कोई विरोध है। पर जिले में बनने वाले कांग्रेस मठाधीशों और उनकी कार्यशैली से विरोध है। यह मठाधीश बूथ से लेकर जनपद स्तर तक काम कराते रहे ,पैसा भी खर्च करते रहे और जिला प्रभारी तथा कार्यवाहक अध्यक्ष आशीष सिंह व अन्य मठाधीशों ने अवैध वसूली कर पैसे के बल पर आयातित प्रत्याशी को प्रत्याशी बना दिया और हम लोगों की मेहनत को राष्ट्रीय स्तर पर नहीं आंका गया। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने भी प्रत्याशिता के लिए आवेदन किया था, यही नहीं, लगभग दो दर्जन लोगों ने भी आवेदन किया था किंतु इन आवेदनों को राष्ट्रीय स्तर के अधिकारियों को सही जानकारी नहीं दी गई और पैसे के बल पर वसूली करके प्रत्याशी बना दिया गया। उन्होंने कहा कि सभी पार्टियों द्वारा पार्टी प्रत्याशी बनाए गए हैं चमार बिरादरी का कोई भी प्रत्याशी नहीं बनाया गया है जो कार्यकर्ता कतई पसंद नहीं करेगा। उन्होंने विरोध दर्ज कराते हुए मठाधीशों और जिला प्रभारी के खिलाफ जांच किए जाने की मांग की है। मालूम हो कि विश्वसनीय सूत्र बताते हैं कि दो भागों में बटी यहां की कांग्रेसी के अलग अलग मठाधीश टिकट दिलाने के नाम पर इन कार्यकर्ताओं का आर्थिक शोषण करते रहे। इसी तरह का आरोप शहर महिला कांग्रेस अध्यक्ष सुनीता देवी व मीडिया प्रभारी भुट्टो मिया ने भी लगाए थे। यही नहीं, बिहार से एक अपनी प्रत्याशीता दर्ज कराने आए हरदोई के निवासी अमिताभ स्वरूप को भी अध्यक्ष द्वारा टिकट दिलाए जाने की पुरजोर कोशिश की गई थी लेकिन ऐसा ना हो सका और प्रत्याशीता को लेकर विद्रोह के स्वर फूटने लगे। कार्यवाहक जिला अध्यक्ष आशीष सिंह से मीडिया ने जब यह पूछा कि यह आरोप लगाने वाली महिला कौन है तो उन्होंने साफ शब्दों में कहा कि इस महिला को हम नहीं जानते, जबकि उक्त सुनीता मित्रा पूर्व जिला पंचायत सदस्य और जिला युवक कांग्रेस की महासचिव और सक्रिय कार्यकर्ता रही है।

=>