Friday, December 4, 2020 at 10:43 PM

” जीवन का अलभ्य लाभ सत्संग ” – संत तुलसीदास

ग्राम चक्के कुटीर उपवन में आयोजित भागवत कथा मे श्री अयोध्या धाम से पधारे भागवत मर्मज्ञ श्री तुलसीदास ने कहा कि हमारा अनमोल समय परदोष दर्शन में खप रहा है मानव बनना तो सरल है पर मानवता लाना कठिन है। कथा सत्संग की परंपरा बहुत पुरानी है भागवत कथा व्यथा को दूर करती है जिस प्रकार अशोक वाटिका में संत हनुमान जी द्वारा कथा सुनकर सीता मां की व्यथा दूर हो गई। उद्धव और वज्रनाभ के पावन मिलन की कथा का भाव बोध कराते हुए आपने कहा कि संसार की हर वस्तु नश्वर है। मोह ग्रस्त होकर ऐसा कर्म ना करें जिससे पश्चाताप करना पड़े शासन के निर्देशों के अनुसार सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए श्रद्धालुओं ने कथा सुनी वही डॉक्टर अजयेन्द्र कुमार दुबे ने सभी को मास्क भी वितरित करवाया मंचस्थ संत श्री का अभिनंदन करते हुए आगत जनों को साधुवाद दिया। आरती वंदन अभिराम दुबे ने किया इस अवसर पर पंडित राम सुमेर मिश्र ब्रह्मदेव दुबे श्री भूषण मिश्र पंडित हरिशंकर आचार्य श्याम जीत पांडे पंडित प्रेम शंकर दुबे कृष्णलला दुबे कृष्ण प्रताप दुबे विजयेन्द्र कुमार दुबे रवि दुबे कमला यादव जगदीश यादव विष्णु कश्यप मालिक श्याम मिलन यादव जितेंद्र दुबे उपेंद्र दुबे विजय राकेश मुन्ना आदि प्रभृति जन उपस्थित रहे।

loading...
Loading...