विहिप का प्रयास लाया रंग, ईसाई बनाए गए लौटे अपने हिन्दू धर्म में

— प्रलोभन देकर कराया गया था धर्म परिर्वन, भेद खुला तो हुआ मोहभंग
— ग्रामीणी इलाकों में इसाई मिशनरियों के दुष्प्रचार से बढ़ने लगा है आक्रोश

मिर्जापुर। जिले के ग्रामीण और पिछड़े इलाके में सक्रिय ईसाई मिशनरियां गरीब और अंधविश्वास जैसी कुरीतियों के जकड़न में फंसे हुए लोगों को विभिन्न प्रकार का प्रलोभन देकर उनका धर्म परिर्वतन कराने में जुटी हुई हैं। यह कार्य नगर से लेकर जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में इन दिनों तेजी के साथ चल रहा है। मजे की बात है कि प्रशासन को इसकी भनक तक नहीं हो पा रही है। जिससे जौनपुर जैसी घटना घटित होने से यहां भी इंकार नहीं किया जा सकता है। शुक्रवार को विहिप ने बड़ी संख्या में कुछ परिवारों को जो ईसाई मिशनरियों के बहकावे में आकर बीमारी, परेशानी से मुक्ति पाने इत्यादि के लालच में आकर धर्म परिर्वतन कर बैठे थे, लेकिन जैसे ही उनका मोहभंग हुआ वह पुनः अपने हिन्दू धर्म में वापस आ गए है। जिन्हें घर वापसी कार्यक्रम के जरिए विहिप ने पुर्न धर्म में लाने का कार्य किया है।
बताते चले कि जिले के संतनगर पुलिस चौकी क्षेत्र के टाऊआ में दर्जनों हिन्दू परिवार को पिछले महिनें विभिन्न प्रकार का प्रलोभन देते हुए ईसाई धर्म स्वीकार करा दिया गया था। जिसकी भनक लगते ही विहिप इत्यादि के लोग सक्रिय हो गए थे। उधर धर्म परिर्वतन कर ईसाई धर्म स्वीकार किए लोगों का भी धीरे-धीरे इनसे मोहभंग होने लगा था जिन्होंने अंततः अपनी गलती को स्वीकार करते हुए पुनः अपने धर्म में लौटने की इच्छा जताई थी जिसे पर उन्हें विधिपूर्व के धर्म परिर्वतन कराते हुए उनकी घर वापसी कराई गई। इस मौके पर विश्व हिंदू परिषद धर्म प्रसार अध्यक्ष विजय बहादुर पांडेय, जिलाध्यक्ष रामचंद्र शुक्ल ने सभी को सभी की उपस्थिति में विजय शंकर तिवारी द्वारा शुद्धिकरण मंत्रोच्चार द्वारा पूजन व हवन कराकर डेढ़ दर्जन लोगो को पुनः हिन्दू धर्म स्वीकार कराया गया है। इस मौके पर धर्म प्रसार अध्यक्ष द्वारा शिवजी व श्री रामचन्द्र की प्रतिमा, चालीसा संग्रह के साथ सभी को लॉकेट भेंट कर सनातन धर्म वापसी हेतु संकल्प दिलवाया गया।
इस मौके पर श्रीराम कवि, डॉक्टर आशुतोष राठौर, पुल्लूर मौर्य, लालचंद, गुलाबचंद मौर्य विनोद कुमार मौर्य, कल्लू प्रजापति इत्यादि लोग रहे।

=>