लोहिया संस्थान के कार्य में तेजी न लाने पर व्यक्त की नाराजगी : डॉ.रजनीश

लखनऊ। डॉ.राम मनोहर लोहिया संस्थान के नए कैम्पस में आवासीय भवनों तथा छात्रावास के निर्माण के लिए धनराशि दिए जाने एवं बैठकों के बावजूद भी कार्य में तेजी नहीं लाने पर प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा प्रमुख सचिव डॉ.रजनीश दुबे ने नाराजगी व्यक्त की है। साथ ही उन्होंने पीजीआई तथा केजीएमयू में निर्माणाधीन कार्यों को इसी माह तक पूरा कराकर लोकार्पण की तिथि निर्धारित करने के निर्देश दिये हैं।
चिकित्सा शिक्षा प्रमुख सचिव आज चिकित्सा विश्वविद्यालयों, स्वायत्तशासी संस्थानों तथा राजकीय मेडिकल कालेजों के निर्माण कार्यों की समीक्षा राम मनोहर लोहिया संस्थान सभागार में कर रहे थे।

विवाहित नर्सों के लिए 100 फ्लैट तथा टाइप.4 के 40 आवास

बैठक के दौरान प्रमुख सचिव को निर्माण एजेन्सियों ने बताया कि पीजीआई में विवाहित नर्सों के लिए 100 फ्लैट तथा टाइप.4 के 40 आवासों का निर्माण कार्य इसी माह में पूरा कर लिया जायेगा। इससे पीजीआई में कार्यरत मैरिड नर्सोंध्वरिष्ठ चिकित्सा शिक्षकों को कैम्पस में ही आवास की सुविधा उपलब्ध हो सकेगी। पुराने ओपीडी भवन के स्थान पर 134 बेड्स के वार्ड के निर्माण का कार्य पूरा कर लिया गया है। इससे पीजीआई में 134 बेड्स की वृद्धि होगी तथा अधिक मरीजों को भर्ती कर उन्हें सुपर स्पेशियलिटी चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करायी जा सकेगी।

स्टाफ क्वार्टर्स तथा आम्रपाली योजना हरदोई रोड में

इसके अतिरिक्त पानी की समस्या के निदान के लिए कैम्पस में ही ट्यूबेल का निर्माण कार्य भी पूरा कर लिया गया है। न्यू लाइबे्ररी एवं लेक्चर थियेटर में डीजी सेट की स्थापना का कार्य भी पूर्ण कर लिया गया है। पीजीआई के इन कार्यों की कुल लागत 64.50 करोड़ रुपये है।
प्रमुख सचिव ने केजीएमयू में कार्डियोलॉजी विभाग के भवन का विस्तार एवं मल्टीलेबिल पार्किंग आरएएलसी में टाइप.1 के 36 स्टाफ क्वार्टर्स तथा आम्रपाली योजना हरदोई रोड में शिक्षकों एवं कर्मचारियों के आवास का निर्माण कार्य इसी माह पूरा किये जाने के निर्देश दिये।

=>