उत्तर प्रदेश

यूपी में जल्द शुरू होंगे बंद पडे़ कम्बल कारखाने, राज्य सरकार खरीदेगी

लखनऊ, । उत्तर प्रदेश में बंद पडे़ खादी तथा ग्रामोद्योग बोर्ड के 08 विभागीय कम्बल कारखाने जन्द ही पुनर्जीवित कर प्रभावी ढंग से संचालित किये जायेंंगे। यहां निर्मित कम्बलों की गरीबों में वितरण के लिए तथा स्कूलों, छात्रावासों, अस्पतालों और बंदीग्रहों में सप्लाई की जायेगी। खास बात यह है कि कम्बल कारखानों में बनने वाले सभी कम्बल राज्य सरकार खरीदेगी।
हाल ही में आयोजित विभागीय बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि खादी तथा ग्रामोद्योग बोर्ड के स्वयं के 08 विभागीय कम्बल कारखाने मौजूद हैं, जो वर्तमान में बंद पड़े हैं। उन्होंने इन सभी कम्बल कारखानों को पुनर्जीवित करते हुए इन्हें प्रभावी ढंग से संचालित करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि निर्मित कम्बलों पर गांधी जयन्ती के अवसर पर ‘गांधी 150’ का लोगो बनाकर लगाया जाए। साथ ही, यहां निर्मित कम्बलों को गरीबों में वितरण के लिए तथा स्कूलों, छात्रावासों, अस्पतालों और बंदीग्रहों में सप्लाई किया जाए।
मुख्यमंत्री ने कहा कि ठण्ड के मौसम में राज्य सरकार को 08-10 लाख कम्बलों की आवश्यकता गरीबों इत्यादि में वितरण के लिए पड़ती है। इन कम्बलों की आपूर्ति इन 08 कम्बल कारखानों से करना सुनिश्चित किया जाए। कम्बल कारखानों में बनने वाले सभी कम्बल राज्य सरकार खरीदेगी। उन्होंने सप्लाई के अनुसार कम्बलों के रंग निर्धारित करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि स्कूलों, छात्रावासों, अस्पतालों और बंदीग्रहों में सप्लाई किए जाने वाले कम्बलों के रंग अलग-अलग होने चाहिए। इसके लिए आवश्यकता पड़ने पर कम्बल कारखानों की क्षमता का विस्तार किया जाए। उन्होंने कम्बलों के निर्माण में प्रदेश के भेड़पालकों से ऊन लेने के भी निर्देश दिए।

राजस्व, पुलिस व भूतत्व एवं खनिकर्म विभागों को निगरानी एवं पेट्रोलिंग करने के निर्देश

लखनऊ, 27 जून 2019 (आईपीएन)। प्रदेश सरकार ने समस्त जिलाधिकारियों को मानसून सत्र (01 जुलाई से 30 सितम्बर तक) में स्वीकृत खनन क्षेत्रों से बाहर उप खनिजों के अवैध खनन एवं परिवहन पर प्रभावी अंकुश लगाने के लिए संबंधित मार्गों पर राजस्व विभाग, पुलिस विभाग एवं भूतत्व खनिकर्म विभाग की सतत निगरानी एवं पेट्रोलिंग कराने के निर्देश दिये हैं।
यह जानकारी भूतत्व एवं खनिकर्म निदेशक डा0 रोशन जैकब ने आईपीएन को दी। उन्होंने बताया कि मानसून सत्र (01 जुलाई से 30 सितम्बर तक) में प्रदेश के नदी तल में उपलब्ध उपखनिज बालू या मौरम का खनन व निकासी कार्य प्रतिबन्धित रहता है। उन्होंने बताया कि मानसून सत्र में खनन संक्रिया प्रतिबंधित रहने की स्थिति में माह जून के अन्तिम सप्ताह में उपखनिज बालू व मौरम के खनन एवं निकासी में अप्रत्याशित वृद्धि होने से स्वीकृत क्षेत्रों से इतर खनन एवं अवैध परिवहन की संभावना बनी रहती है, जिससे राजस्व क्षति के साथ-साथ कानून व्यवस्था पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। उन्होंने बताया कि उपखनिजों के अवैध खनन एवं परिवहन पर प्रभावी नियंत्रण करने के लिए राजस्व विभाग, पुलिस विभाग व भूतत्व एवं खनिकर्म विभाग के सहयोग से सतत निगरानी रखी जा सकती है।

खाद्य प्रसंस्करण के क्षेत्र में पूंजी निवेश की है अपार सम्भावनाएं

लखनऊ, 27 जून 2019 (आईपीएन)। उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण के क्षेत्र में अनेक उल्लेखनीय कार्य किये जा रहे हैं। खाद्य प्रसंस्करण के क्षेत्र में अपार सम्भावनाओं के दृष्टिगत सरकार द्वारा कई महत्वाकांक्षी व जनोपयोगी योजनाएं संचालित की जा रही है।
निदेशक उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण राघवेन्द्र प्रताप सिंह ने बताया कि खाद्य प्रसंस्करण को बढ़ावा देने के उद्देश्य से वर्तमान सरकार द्वारा महत्वपूर्ण निर्णय लिये गये हैं तथा उल्लेखनीय उपलब्धियां भी हासिल की गयी है। उन्होंने बताया कि यूपी इन्वेस्टर्स समिट में खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र में 269 उद्यमियों द्वारा धनराशि रू0 15182.54 करोड़ के एएमयू किये गये और प्रथम ग्राउण्ड ब्रेकिंग समारोह के पश्चात् 126 उद्यमियों के लगभग रू0 5390.70 करोड़ लागत के निवेश संबंधी परियोजनाओं में धरातल पर कार्य प्रारम्भ है। गत वर्ष 52 परियोजना प्रस्तावों, जिनमें पूंजी निवेश लगभग रू0 157.49 करोड़ है, को स्टेट लेवल इम्पावर्ड कमेटी द्वारा स्वीकृति प्रदान की गयी और स्वीकृत प्रस्तावों में 29 परियोजनाएं व्यावसायिक उत्पादन में हैं।
श्री सिंह ने बताया कि प्रधानमंत्री किसान सम्पदा योजना के अन्तर्गत प्रदेश सरकार के विशेष प्रयास से खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय भारत सरकार से प्रदेश में 03 मेगा फूड पार्कों की सैद्धान्तिक स्वीकृति प्रदान की गयी है, जिनमें 02 परियोजनाएं मैसर्स पतंजलि फूड्स एण्ड हर्बल प्रा0लि0 गौतमबुद्ध नगर एवं मैसर्स नन्दवन फूड पार्क प्रा0लि0 मथुरा को भारत सरकार द्वारा अन्तिम स्वीकृति प्रदान की गयी है। क्रियेशन ऑफ इन्फ्रास्ट्रक्चर फॉर एग्रो प्रोसेसिंग क्लस्टर के अन्तर्गत 04 कलस्टर जनपद कानपुर देहात, गोरखपुर, कानपुर नगर एवं मथुरा हेतु स्वीकृत हुए हैं।
उन्होंने बताया कि वित्तीय वर्ष 2018-19 में एक वर्षीय ट्रेड डिप्लोमा (खाद्य प्रसंस्करण/बेकरी एवं कन्फैक्शनरी) पाक कला में 450 लोगों को तथा एक मासीय अंशकालीन बेकरी एवं कन्फैक्शनरी, पाक कला एवं एक मासीय सम्मिलित पाठ्यक्रम कुकरी, बेकरी एवं कन्फैक्शनरी व खाद्य संरक्षण में 1035 लाभार्थियों को प्रशिक्षित किया जा चुका है।

लेखपालों का इन्तजार हुआ खत्म, मण्डलायुक्त डीएम व एसपी ने 396 लेखपालों को बांटे लैपटाप

गोण्डा, 27 जून 2019 (आईपीएन)। राजस्व व जनता के कार्यों मे तेजी लाने के उद्देश्य से प्रदेश सरकार द्वारा एन्ड्रायड फोन के बाद अब लेखपालों को लैपटॉप देकर हाईटेक कर दिया गया है। सभी लेखपाल अब त्वरित गति से जनता के कार्यों को निपटाएं। जिन्हें संचालन का ज्ञान नहीं है वे संकोच छोड़ लैपटाप चलाना सीख लें जिससे सरकार मंशानुरूप जनता को फायदा मिल सके व राजस्व कार्यों में तेजी आ सके। यह बातें देवीपाटन मण्डल के आयुक्त महेन्द्र कुमार ने जिला पंचायत सभागार में आयोजित कार्यक्रम में राजस्व लेखपालों को लैपटाप प्रदान करने के बाद बतौर मुख्य अतिथि कही।
बताते चलें कि गुरूवार को लम्बे अरसे से चली आ रही लेखपालों की मांग खत्म हो गई। शासन के निर्देश पर राजस्व कार्यो में तेजी लाने के उद्देश्य से जिला पंचायत सभागार में ई-डिस्ट्रिक्ट योजनान्तर्गत जिले के 396 लेखपालों को लैपटाप प्रदान किया गया। मुख्य अतिथि आयुक्त देवीपाटन मण्डल महेन्द्र कुमार, डीएम नितिन बंसल व एसपी आर0पी0 सिंह ने दीप प्रज्ज्वलित कर वितरण कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। जिला पंचायत हॉल में लेखपाल लैपटॉप पाकर खुश दिखे सरकार का धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि लैपटॉप के माध्यम से राजस्व कार्यो में तेजी आएगी और इससे जनता को काफी फायदा होगा।
इस अवसर पर समारोह को संबोधित करते हुए मण्डलायुक्त ने कहा कि लैपटॉप से अब खसरा खतौनी आय जाति निवास प्रमाण पत्र बनाकर समय से लोगों को मिल सकेगा। इस अवसर पर जिलाधिकारी डा0 नितिन बंसल ने लेखपालों को बधाई देते दायित्व बोध कराया। उन्होने कहा कि जहां लैपटॉप मिलने से लोगों के कार्यों का निस्तारण में तेजी आएगी वही सभी लेखपाल बंधु भी जनता को समय से कागजाद उपलब्ध कराएं ताकि जनता के बीच राजस्व कार्यो के प्रति एक अच्छा संदेश जाए। गांव में अधिकांश लोग आय जाति निवास सहित अधिकांश मामले जो राजस्व से संबंधित होते हुए कंप्यूटर का ज्ञान न होने के कारण प्रार्थना व आवेदन भरने में कठिनाई होती है उनका लेखपाल बंधु सहयोग प्रदान करेंगे तथा ईमानदारी से समय निस्तारित करेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि जिन्हें लैपटॉप चलाना नही आ रहा है उन्हें प्रशिक्षित किया जाए। मुख्य राजस्व अधिकारी आर0आर0 प्रजापति ने कहा कि काफी समय से लेखपालों के द्वारा शासन से मांग की गई थी जिसके निर्देश के क्रम में आज 396 लैपटाप प्रदान किए गये। लैपटाप का वितरण दो शिफ्टों में किया गया। पहली शिफ्ट में तहसील सदर व करनैलगंज के तथा दूसरी शिफ्ट में तहसील मनकापुर व तरबगंज के लेखपालों को लैपटाप बांटे गए। कार्यक्रम का संचालन एडीएम रत्नाकर मिश्र ने किया।
इस दौरान नगर मजिस्ट्रेट राकेश सिंह, तहसीलदार सदर वेद प्रकाश पाण्डेय, जिला सूचना विभान अधिकारी गिरीश कुमार, ई-डिस्ट्रिक्ट मैनेजर अमित गुप्ता, लेखपाल वासदेव सिंह, तिलकराम, रमेश वर्मा, दिव्य प्रकाश सिंह, विनय यादव, मस्तराम वर्मा व अन्य रहे।
फोटो संलग्न
1 से 9

जामुन के पेड़ से गिरकर किशोर की मौत

फतेहपुर, 27 जून 2019 (आईपीएन)। बिन्दकी कोतवाली क्षेत्र के ग्राम शहजादेपुर में आज दोपहर जामुन के पेड़ से गिरकर लगभग 15 वर्षीय एक किशोर गम्भीर रूप से घायल हो गया। जिसे उपचार के लिए बिन्दकी सीएचसी ले गये। जहां उसकी हालत गम्भीर देख जिला चिकित्सालय के लिए रिफर कर दिया। उधर सदर अस्पताल में चिकित्सक ने उसे मृत घोषित कर दिया। वही परिजन शव को लेकर वापस अपने गांव चले गये।
जानकारी के अनुसार शहजादेपुर गांव निवासी पुत्तन का पुत्र अनीस आज दोपहर लगभग साढ़े बारह बजे अपने कुछ हमजोली साथियों के साथ गांव के बाहर स्थित जामुन के पेड़ पर चढ़कर जामुन तोड़ रहा था। तभी अचानक डाल टूट गयी। जिसके साथ वह नीचे गिर पड़ा और घायल हो गया। जानकारी होने पर परिजन मौके पर पहुंचे और गम्भीर अवस्था में सीएचसी ले गये, जहां चिकित्सक ने हालत गम्भीर होने पर सदर अस्पताल के लिए रिफर कर दिया। परिजन किशोर को आनन-फानन जिला चिकित्सालय लाये, जहां इमरजेन्सी में तैनात चिकित्सक ने उसे मृत घोषित कर दिया। वहीं परिजन मौत की खबर सुनते ही शव को अपने साथ गांव वापस ले गये।

loading...
=>

Related Articles