कन्या सुमंगला योजना की बैठक में बालिकाओ के स्वास्थ्य व शिक्षा पर बल

फतेहपुर। कन्या सुमंगला योजना की समीक्षा बैठक कैम्प कार्यालय में जिलाधिकारी संजीव सिंह अध्यक्षता में सम्पन्न हुई। जिलाधिकारी ने बताया कि यह योजना शासन की शीर्ष प्राथमिकता में है। इसका मुख्य उद्देश्य कन्या भ्रूण हत्या को समाप्त करना, समान लैंगिग अनुपात स्थापित करना, बाल विवाह की कुप्रथा को रोकना, बालिकाओ के स्वास्थ्य व शिक्षा को प्रोत्साहन देना, बालिकाओ को स्वावलंबी बनाने के सहायता प्रदान करना, बालिका के जन्म के प्रति समाज मे सकारात्मक सोच विकसित करना है। इस योजना में पात्र लाभार्थी उत्तर प्रदेश का निवासी हो, उसके पास स्थायी निवास प्रमाण पत्र, जैसे राशन कार्डध्आधार कार्डध्विद्युत, टेलीफोन का बिल मान्य है, लाभार्थी की वार्षिक आय रू 03 लाख हो, परिवार के दो बालिकाओ को ही योजना का लाभ मिलेगा। इस योजना में 06 श्रेणी में धनराशि दी जाएगी, प्रथम श्रेणी -बालिका के जन्म होने पर रु 2000, द्वितीय श्रेणी बालिका एक वर्ष तक के पूर्ण टीकाकरण के उपरांत रु 1000, तृतीय श्रेणी कक्षा प्रथम में बालिका के प्रवेश के उपरांत रु 2000, चतुर्थ श्रेणी कक्षा 06 में बालिका के प्रवेश के उपरांत रु 2000, पंचम श्रेणी कक्षा नौ में बालिका के प्रवेश के उपरांत रु 3000 तथा षष्टम श्रेणी में 12वी पास करके स्नातक अथवा 02 वर्षीय या अवधि के डिप्लोमा कोर्स में प्रवेश लिया को रु 5000 एकमुश्त दिया जाएगा।
जिलाधिकारी ने इस योजना हेतु अधिकारियों को निर्देश दिए है कि अधिक से अधिक लोगो को लाभान्वित किया जाय। उन्होंने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देश दिए कि प्राथमिक, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में जन्म लेने वाली बेटियों का डाटा लेकर आवेदन कराये और सम्बंधित खंड विकास अधिकारी को भेजे। आशा, एएनएम ग्रामवार सूची तैयार कराये और उसमें अपना मोबाइल नम्बर अंकित करे जिससे कि आवेदन फॉर्म में गलत होने पर सम्पर्क किया जा सके। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से कहा कि जनपद में टॉपर्स बेटियों की सूची बना कर जिला प्रोबेशन अधिकारी को उपलब्ध कराए एवं कहा कि पैरेंट्स मीटिंग बुलाकर योजना के बारे में बताए और पत्रों की सूची बनाकर सत्यापन कराते हुए आवेदन कराये। 20 से 21.08.2019 तक प्राथमिक, उच्च प्राथमिक, इण्टर कालेजध्महाविद्यालय में अभियान चलाकर फॉर्म भरवाये जाए। उन्होंने कहा कि योजना का शहरी क्षेत्र से ग्रामीण क्षेत्र तक व्यापक प्रचार प्रसार करने के प्रोबेशन अधिकारी को निर्देश दिए।
इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी चाँदनी सिंह, उपजिलाधिकारी सदर राहुल कश्यप विश्वकर्मा, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ उमाकांत पांडेय, जिला प्रोबेशन अधिकारी, समस्त खण्ड विकास अधिकारी सहित सम्बंधित उपस्थित रहे।

=>