उत्तर प्रदेशलखनऊ

 सुपारी किलर गिरोह के तीन शूटर गिरफ्तार 

-एसटीएफ ने बदमाशों को प्रयागराज से दबोचा 
लखनऊ। यूपी एसटीएफ ने भाड़े पर हत्या करने वाले गिरोह का पर्दाफाश करते हुए गिरोह के तीन सदस्यों को प्रयागराज से  गिरफ्तार करने का दावा किया है। पकड़े गये आरोपियों के कब्जे से तीन अवैध तमंचा 315 बोर, छह जिंदा कारतूस व 380 रूपये की नकदी बरामद हुई है। आरोपियों के खिलाफ विधिक कार्रवाई कर उसके अन्य साथियों की तलाश की जा रही है।

एसटीएफ के  पुलिस अधीक्षक अमित कुमार ने बताया कि भीरपुर रेलवे स्टेशन प्रयागराज से तीन बदमाशों को गिरफ्तार किया गया है। पकड़े गये आरोपियों ने पूछताछ में अपना नाम व पता दिनेश कुमार यादव निवासी मड़वा वीरपुर, थाना करछना, प्रयागराज,  शशिकान्त पाल उर्फ बब्बे निवासी नेदुला जंघई, थाना सरायममरेज, प्रयागराज व  निर्मल कुमार यादव निवासी असवां, जंघइ, थाना मीरगंज, जनपद जौनपुर बताया है। पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि हम लोग अपराधी विजय पाण्डेय निवासी वीरपुर थाना करछना, जनपद प्रयागराज के साथ रहते हैं। करीब पांच वर्ष पूर्व विजय पाण्डेय के चाचा के लड़के विमल पाण्डेय जो प्रॉपर्टी डिलिंग का कारोबार करते थे, उनकी हत्या करन पाण्डेय, प्रांजल एंव हिमांशु शुक्ला उर्फ बत्ती निवासी प्रयागराज ने मिलकर कर दी। इस हत्या के मुख्य गवाह विजय पाण्डेय है।  विजय पाण्डेय ने राजा पाण्डेय पर गोली चलवायी थी, जिसमें वह जिन्दा बच गया था।

इस घटना के बाद विजय पाण्डेय की धाक पूरे इलाके में जम गयी और उसने इलाके में जमीन पर अवैध कब्जा करना, बालु व पत्थर के ठेकेदारों से रंगदारी वसूलना एंव लोगों को धमकी देकर अवैध वसूली का काम शुरू कर दिया। राजा पाण्डेय जब अस्पताल से ठीक होने के बाद अपने गांव में आया तो वह भी उस इलाके में अवैध वसूली करना चाहा कि दोनों (विजय पाण्डेय व राजा पाण्डेय) में इसी बात को लेकर वर्चस्व की लड़ाई चलने लगी एवं एक दूसरे को जान से मारने के लिए खोजने लगे। इसी क्रम मे राजा पाण्डेय ने एक दिन अपने साथियों के साथ विजय पाण्डेय को मारने के लिए उसके घर पहुंच गया जहां विजय पाण्डेय को न पाकर उसके पिता लालता प्रसाद पाण्डेय की गोली मारकर हत्या कर दी। आरोपियों ने बताया कि विजय पाण्डेय के कहने पर ही हम लोग दिनेश यादव के साथ मिलकर शिवा कुशवाहा और उसके साथियों की हत्या करने की योजना बना रहे थे। बरामद असलहा व कारतूस विजय पाण्डेय ने  उपलब्ध कराया था।

loading...
=>

Related Articles