कानपुर

युवक के खुदकुशी मामले में महिला डाक्टर व अन्य अज्ञात साथियों पर मुकदमा दर्ज

कानपुर। बिठूर के नसेनिया टिकरा गांव में युवक के खुदकुशी करने के मामले में गहलोत अस्पताल की महिला डॉ.रेनू सिंह गहलोत और उनके कुछ अज्ञात साथियों के खिलाफ पुलिस ने एफआईआर दर्ज की। मृतक के भाई की तहरीर पर पुलिस ने आरोपियों पर आत्महत्या के लिए प्रेरित करने,धमकाने व एससीएसटी एक्ट में कार्रवाई की है।
टिकरा गांव निवासी वीरेंद्र सिंह गौतम (30) ने बुधवार को घर पर फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली थी। वीरेंद्र ने खुदकुशी के ठीक पहले एक वीडियो बनाने के साथ दो पन्ने का नोट लिखा था, जिसमें लिखा था कि एक नवंबर को उनकी पत्नी की डिलीवरी के दौरान कल्याणपुर के गहलोत अस्पताल में मौत हो गई थी।
इसकी जिम्मेदार डॉक्टर रेनू सिंह गहलोत हैं। वीरेंद्र के भाई विजय कुमार ने थाने में तहरीर दी। सीओ कल्याणपुर अजय कुमार ने शुक्रवार को बताया कि तहरीर के आधार पर डॉ.रेनू व उनके अन्य अज्ञात साथियों पर आत्महत्या के लिए प्रेरित करने,धमकाने व एससीएसटी एक्ट में एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू की गई है। पुलिस जल्द ही आरोपी डॉक्टर समेत अस्पताल के अन्य अधिकारियों व कर्मचारियों से पूछताछ करेगी।
वीरेंद्र के भाई विजय कुमार ने बताया कि डॉक्टर की गलती से रेखा की मौत हुई थी। इसलिए अस्पताल प्रशासन ने खुद को बचाने के लिए वीरेंद्र पर एफआईआर दर्ज कराई थी। जो तहरीर वीरेंद्र ने दी थी, उस पर पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की थी। आरोप है कि घटना के बाद से वीरेंद्र को धमकियां मिल रही थीं।
loading...
Loading...

Related Articles

Back to top button