शिक्षा—रोजगार

ऑफिस में नहीं करनी अपनी इमेज खराब तो जरूर रखें इन बातों का ध्यान

आपके करियर में आपके बोलने के तौर-तरीके पर बहुत कुछ निर्भर करता है। आपकी जुबान से निकली हुई कोई भी बात आपके करियर पर नेगेटिव असर डाल सकती है। कई बार हम बात करते-करते आखिर में कुछ ऐसा बोल देते हैं, जो दूसरों की नजर में गलत संदेश की तरह पहुंचता है। जॉब में किसी भी तरह का अनप्रफेशनल तरीका आपकी इमेज पर धब्बा बन सकता है। तो क्या आप जानते हैं कि वो कौन से शब्द या लाइनें है, जो बोलकर आप खुद की इमेज को खराब करते हैं ?

इन शब्दों से बनेगी नेगेटिव इमेज
हमारी रोजमर्रा की लाइफ में कुछ शब्द ऐसे होते हैं, जो प्रफेशनल लाइफ में बिलकुल भी जायज नहीं ठहराए जा सकते। ‘असंभव’ या ‘नहीं कर सकता’ इस तरह के शब्द दूसरों के सामने आपकी नकारात्मक छवि बनाते हैं। एक ऐसे इंसान की तरह आपको प्रदर्शित करते हैं, जो जिम्मेदारियों से भागता हो।

ऑफिस का माहौल ऐसे बनाएं हेल्दी

  • ऑफिस का माहौल ऐसे बनाएं हेल्दी

    हम जहां पर काम करते हैं वहां का माहौल भी हमारे शरीर पर प्रतिकूल या अनुकूल प्रभाव डालता है। अगर ऑफिस का माहौल अच्छा और खुशनुमा है तो एक स्फूर्ति सी महसूस होती है पर वहीं अगर वातावरण में स्ट्रेस हो तो यह आपको बहुत प्रभावित कर सकता है। आगे की स्लाइड्स में जानिए कुछ सुझाव जिनसे आपके ऑफिस का माहौल भी खुशनुमा हो सकता है…
  • ऑफिस का माहौल ऐसे बनाएं हेल्दी

    ऑफिस में काम करते हुए एक नियमित अंतराल पर ब्रेक जरूर लें। लगातार काम करते रहना आपको थका तो देता ही है साथ ही यह माहौल बहुत उबाऊ बना देता है। एक अंतराल पर ब्रेक लें, टहल लें, चाय पी लें और फिर से लग जाएं काम पर। इस छोटे से ब्रेक के बाद आप अच्छा महसूस करेंगे।
  • ऑफिस का माहौल ऐसे बनाएं हेल्दी

    अगर आपको अपना काम बोरिंग लग रहा है और आपको कुछ और काम करने का मन है तो इस बारे में अपने बॉस या सीनियर्स से बात जरूर करें। अपनी पसंद का काम आपको बोझ नहीं लगेगा, आपको काम करने में मजा आने लगेगा।
  • ऑफिस का माहौल ऐसे बनाएं हेल्दी

    अपना डेस्क साफ-सुधरा रखें। डेस्क साफ-सुथरा रहे तो काम करते समय पॉजिटिविटी महसूस होती है। काम खत्म होने के बाद जब उठें तो भी डेस्क साफ करें।
  • ऑफिस का माहौल ऐसे बनाएं हेल्दी

    ऑफिस में चलते हुए, साथियों से बात करते हुए और काम करते हुए भी सकारात्मक भाव भंगिमा बनाए रखें। ऐसा करने से आपको तो अच्छा लगेगा ही आपके सहकर्मियों को भी पॉजिटिविटी महसूस होगी।

ये वाक्य दर्शाता है कमजोरी
अक्सर हम अपने ऑफिस में किसी प्रजेक्ट को लेकर असमंजस में रहते हैं और हमारे मुंह से निकल जाता है कि ‘मैं पक्का नहीं हूं, लेकिन ये हमें करना चाहिए’। जब आप इस तरह की पंक्ति बोलते हैं, तो आप दूसरों के सामने ये दर्शातें हैं कि मेरे अंदर आत्‍मविश्वास की कमी है। हमारे साथ रहने वाले ज्यादातर लोग हमारी बातों को अच्छे से जानते हैं। ऐसे में आपके द्वारा बोली गई ऐसी लाइन दूसरों के सामने आपको कमजोर व्यक्ति की तरह शो करती हैं।

इस आदत में है विश्वास की कमी
कुछ लोगों को सॉरी एक बहुत आसान शब्द लगता है। इस वजह से वह उसका प्रयोग दिन में कई बार कर देते हैं। इससे आपके अंदर की मानवता तो दिखती है लेकिन बात-बात पर सॉरी बोलना आपके अंदर विश्वास की कमी को दिखाता है। इससे पहले कि आपका इंप्रेशन दूसरों के सामने गलत पड़े, आप बार-बार सॉरी करने की आदत को बदल लें।

ऐसा कतई न कहें
हम अपनी रियल लाइफ में कुछ ऐसे शब्दों का प्रयोग करते हैं, जिसको प्रफेशनल लाइफ में बैड मैनर माना जाता है। उदाहरण के तौर पर, अरे यार, ओह नो, नो वे जैसे शब्द ऑफिशल लाइफ में अच्छी इमेज नहीं बनाते हैं। प्रफेशनल लाइफ के अलावा हमें ऐसे शब्दों का प्रयोग अपनी निजी जिंदगी में भी करने से बचना चाहिए।

loading...
Loading...

Related Articles

Back to top button