Main Sliderराष्ट्रीय

लॉकडाउन से 161 गुना कम हो सकते हैं कोरोना के मामले, रिपोर्ट

नई दिल्ली। हो सकता है कि 21 दिन के लॉकडाउन आप परेशान हों, लेकिन कोरोना जैसे संक्रामक वायरस को रोकने के लिए संपूर्ण लॉकडाउन ही सबसे कारगर उपाय है। अमेरिका के मिशिगन विश्वविद्यालय का अध्ययन बताता है कि एक सप्ताह के संपूर्ण लॉकडाउन से कोरोना का संभावित संक्रमण 161 गुना तक कम हो जाता है। यह यातायात और सोशल क्वारंटाइन जैसे उपायों से कहीं ज्यादा कारगर है।

अध्ययन में बताया गया है कि यदि कोरोना वायरस को रोकने के लिए कोई उपाय नहीं किए गए तो 15 मई तक प्रति एक लाख आबादी में से 161 लोग कोरोना के संक्रमण का शिकार बन जाएंगे। अगर देशभर में इस दौरान यातायात प्रतिबंधित कर दिया जाए तो यह संख्या घटकर प्रति लाख आबादी पर 48 रह जाएगी। यातायात प्रतिबंध के साथ अगर लोगों को सोशल क्वारंटाइन कर दिया जाए तो भी प्रति लाख 4 लोग इस संक्रमण का शिकार होंगे। वहीं, एक सप्ताह का संपूर्ण लॉकडाउन कोरोना संक्रमण को एक व्यक्ति प्रति लाख आबादी पर ला सकता है। विशेषज्ञों की मानें तो तीन सप्ताह का लॉकडाउन कोरोना वायरस के संक्रमण को पूरी तरह निष्प्रभावी कर सकता है।

तो ढाई महीनों में 16 लाख के पार
अध्ययन में कहा गया है कि अगर कड़े प्रतिबंध नहीं उठाए जाएंगे तो देश में कोरोना संक्रमण के मामले अभी जो कुछ सैकड़ा हैं, अगले ढाई महीनों में बढ़कर 16 लाख के पार चले जाएंगे। तब इन्हें रोकना असंभव हो जाएगा। अध्ययन में कहा गया है कि वर्तमान दर के हिसाब से 15 अप्रैल तक कोरोना संक्रमण देश में 4800 तक पहुंच जाएगा। अगले एक महीने में यानी 15 मई तक 9.15 लाख, एक जून तक 14.60 लाख और 15 जून तक 16.30 लाख को पार कर जाएगा।

कितना सटीक अध्ययन
इस अध्ययन के आंकड़े अब तक काफी सही साबित हुए हैं। अध्ययन में 17,18 और 19 मार्च के लिए भारत में 119, 126 और 133 मामलों की भविष्यवाणी की गई थी। वास्तव में इन तारीखों पर क्रमशः 142, 156 और 194 केस दर्ज किए गए थे।

ऐसे बढ़ेंगे मरीज
तारीख संभावित मरीज
15 अप्रैल 4800
15 मई 915000
1 जून 1460000
15 जून 1630000

कौन उपाय कितना कारगर
उपाय संभावित मामले*
कोई उपाय नहीं      161
यातायात प्रतिबंध     48
यातायात प्रतिबंध +सोशल क्वारंटाइन    04
एक हफ्ते का संपूर्ण लॉकडाउन              01

loading...
Loading...

Related Articles