UKADD
Saturday, October 16, 2021 at 3:59 AM

अफ़ज़ल ने सूफियों के समर्थन में धरने पर बैठे विधायक फुरकान का स्वागत किया

रुडकी/कलियर। ऑल इण्डिया सर्वधर्म त्यौहार कमेटी के अध्यक्ष व शायर अफ़ज़ल मंगलौरी ने जिलाधिकारी हरिद्वार से मांग की है कि 753वें उर्स के अवसर दरगाह की परंपराएं पहले की तरह ही जारी रखी जाएँ। सूफियों एवं मस्त मलंगों के लंगर को पूर्व की भांति तुरन्त शुरू किया जाय। उन्होंने फोन पर जिलाधिकारी विनय शंकर पांडेय को अवगत कराया कि कोरोना की आड लेकर कुछ अधिकारी प्रशासन को भृमित कर रहे हैं और उर्स की रसूमात में बाधा डाल कर जायरीन व श्रद्धालुओं की भावनाओं से खिलवाड़ कर रहे हैं। शायर मंगलौरी ने कहा कि विगत चार वर्ष पूर्व भी उर्स में इसी प्रकार की रुकावट पैदा कर प्रशासन को भृमित किया गया था, जिस कारण सूफियों और आत्मघाती मलंगों ने दरगाह के कार्यालय में ताला डाल कर खून-खराबा कर दिया था, जिसके परिणाम स्वरूप तत्कालीन ज्वाइंट मजिस्ट्रेट नितिका खंडेलवाल ने सूफ़ीयों व मलंगों का लंगर व अन्य सुविधाएं लिखित रुप में मान कर जारी कर दी थी। मंगलौरी ने मांग की कि पुराने लिखित समझौते की प्रति के अनुसार मलंगों व सूफियों की सुविधाएं व लंगर जारी किया जाय। उन्होंने कहा कि उर्स मुशायरा व महफ़िल-ए-किरात अगर प्रशासन की ओर से नहीं किया जाता तो वह उर्स की परंपराओं को जारी रखते हुए तमाम कार्यक्रम अपने स्तर पर आयोजित करेंगे। उन्होंने कलियर विधायक हाजी फुरकान अहमद के सूफियों के समर्थन में धरने पर बैठने का भी स्वागत किया।