कारोबार

iPhone से एप्पल की कमाई बढ़ी, टिम कुक बोले- रुपया गिरने से भारतीय बिजनेस पर दबाव

एप्पल ने गुरुवार को जुलाई-सितंबर तिमाही के वित्तीय नतीजे घोषित किए। सालाना आधार पर मुनाफा 32 फीसदी और आईफोन से कमाई 29 फीसदी बढ़ी है। नतीजे घोषित होने के बाद एप्पल के सीईओ टिम कुक ने कहा कि भारत उभरते बाजारों में से एक था, जहां पर अब कंपनी दबाव महसूस कर रही है। भारत की करंसी में लगातार गिरावट एप्पल के भारतीय बिजनेस के लिए चुनौती है।

कुक ने कहा कि भारत में एप्पल का कारोबार तिमाही में लगभग फ्लैट रहा है, लेकिन हम भारत में जल्द ही एप्पल के कारोबार में एक बड़ी वृद्धि देखेंगे। कुक ने लॉन्ग टर्म में अच्छी ग्रोथ की उम्मीद जताई है। उनका कहना है कि भविष्य में भारत की बड़ी आबादी मिडल क्लास वाली होगी। भारत सरकार आर्थिक सुधारों के लिए बड़े कदम उठा रही है।

एप्पल ने आईफोन की बिक्री जुलाई-सितंबर में ज्यादा नहीं बढ़ी। इसके बावजूद मुनाफा सालाना आधार पर 32 फीसदी बढ़कर 14.13 अरब डॉलर रहा। आईफोन से कमाई में 29 फीसदी का इजाफा हुआ। इसकी वजह आईफोन की औसत कीमत में 29 फीसदी बढ़ोत्तरी है। यह 618 डॉलर से बढ़कर 793 डॉलर हो गई है।

आईफोन की औसत कीमत इसलिए बढ़ी, क्योंकि एप्पल ने महंगे प्रोडक्ट लॉन्च किए। पिछले साल 999 डॉलर कीमत वाला आईफोन एक्स बाजार में उतारा। इस साल सितंबर में लॉन्च हुए आईफोन एक्सएस मैक्स की कीमत 1099 डॉलर रखी गई।

सितंबर तिमाही में कंपनी ने 4.68 करोड़ आईफोन बेचे। पिछले साल की इसी तिमाही में यह आंकड़ा 4.67 करोड़ था। एप्पल का मुनाफा 32 फीसदी बढ़कर 14.13 अरब डॉलर रहा। आईफोन की बिक्री को छोड़ बाकी आंकड़े विश्लेषकों के अनुमान से ज्यादा रहे। जुलाई-सितंबर में प्रति शेयर आय 2.91 डॉलर रही। एनालिस्ट्स को 2.78 डॉलर की उम्मीद थी। रेवेन्यू 20 फीसदी बढ़कर 62.9 अरब डॉलर रहा। विश्लेषकों ने 61.57 अरब डॉलर का अनुमान जताया था।

तिमाही नतीजों के ऐलान के बाद एप्पल के शेयर में तेज गिरावट आई। कुछ समय के लिए कंपनी का मार्केट कैप 1 ट्रिलियन डॉलर से नीचे आ गया। हालांकि, बाद में रिकवर हो गया। एप्पल ने अगली तिमाही के लिए रेवेन्यू गाइडेंस 89 से 93 अरब डॉलर दिया है। विश्लेषक 93.02 अरब डॉलर की उम्मीद कर रहे थे।

loading...
Loading...

Related Articles