18 महीने से वेतन न मिलने पर मजदूरों ने किया अर्धनग्न प्रदर्शन

????????????????????????????????????

कानपुर। 18 महीने से वेतन ना मिलने के चलते सोमवार को बीआईसी के कर्मचारियों ने विरोध प्रदर्शन किया। यही नहीं इस गलन भरी सर्दी में कर्मचारियों ने अर्धनग्न होकर कपड़ा मंत्री और प्रधानमंत्री के विरोध में नारे भी लगाये। कर्मचारियों का कहना है कि वेतन न मिलने परिवार भुखमरी के कगार पर है और सरकार हमारी सुनने को तैयार नहीं है।
पिछले 18 महीने का वेतन ना दिये जाने के विरोध मे आज इन्टक नेता आशीष पाण्डेय के नेतृत्व मे इन्टक कार्यकर्ताओं ने ब्रिटिश इंडिया कॉरपोरेशन (बीआईसी) के मुख्यालय पर अर्धनग्न प्रदर्शन किया। प्रदर्शन कारी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व कपड़ामंत्री स्मृति ईरानी के विरोध में नारे लगा रहे थे। मुख्यालय गेट पर सभा को सम्बोधित करते हुये इन्टक नेता आशीष पाण्डेय ने आरोप लगाते हुए कहा कि मजदूरों की प्रबल विरोधी भाजपा सरकार ने पिछले लगभग चार वर्ष छः माह मे वेतन के नाम पर एक भी रुपया नही दिया है। दूसरों मदों से लेकर कई बार 8-8 महीने का वेतन दिया गया। अब अन्य मदों में भी पैसा नहीं बचा। वर्तमान सरकार की कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी मंत्रालय के कार्यों में रुचि ही नहीं लेती हैं। अन्यथा एनटीसी भी कपड़ा मंत्रालय के ही अधीन है। एनटीसी से लोन लेकर वेतन दिया जा सकता है। इन्टक नेता ने बताया कि समय से वेतन न मिलने के कारण 4 वर्षों में 40 से अधिक लालइमली के मजदूर एवं उनके परिवारजनों की मौते हो चुकी है। जिसमे बहुत से मजदूरों ने आर्थिक तंगी के कारण आत्महत्या की है और मिल के लगभग 475 मजदूरों और उनके परिवार के हजारों सदस्यों को वर्तमान केन्द्र सरकार ने तबाह कर दिया है। बच्चों की शिक्षा नहीं हुई। बुजुर्ग मां-पिता का इलाज न हो सका,मजदूरों की पत्नियों के मंगलसूत्र से लेकर घरों के बर्तन भी बिक चुके है। हमें अब इससे अच्छे दिन नहीं चाहिए। विरोध प्रदर्शन के बाद प्रदर्शनकारियों ने कपड़ा मंत्री को सम्बोधित ज्ञापन एससी गुप्ता उप महाप्रबन्धक बीआईसी को सौंपा। इस दौरान गोपला कटियार,अजय सिंह,हर्ष पटेल श्रीराम,रन्तीदेव बाजपेई,उमेश कश्यप,राहुल श्रीवास्तव,लल्लन झा,एके गुप्ता आदि मौजूद रहें।

=>