केसर का करें इस तरह इस्तेमाल मिलेगा डिप्रेशन से आराम

सर्दियों में खुद को स्वस्थ रखने और ठंड़ से राहत पाने के लिए गर्म तासीर वाली चीजें खाना बेस्ट माना जाता है। इस मौसम में प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने लगती है जिससे सर्दी-खांसी, जुकाम और फ्लू बहुत जल्दी हो जाता है। इन सब परेशानियों से राहत पाने के लिए हमेशा दवाइयों का सेवन करना सही नहीं लेकिन घरेलू नुस्खें इन समस्याओं के लिए कारगर माने जाते हैं। जिनमें काली मिर्च, अदरक का पाउडर, जायफल आदि मसालों का इस्तेमाल किया जाता है लेकिन सर्दियों में इस्तेमाल किया जाने वाला केसर यानि सैफ्रॉन (saffron) इन सबसे ज्यादा कारगर है। जो आपको स्वाद, सुगंध और सेहत तीनों दे सकता है।

केसर के फायदे
केसर दुनिया के सबसे महंगे मसालों में से एक है। इसकी खेती ठंड़े इलाकों में की जाती है, भारत में केसर के लिए कश्मीर का उत्पादन किया है। इसका पौधा 6 से 10 इंच लंबा होता है जो कई सालों तक फसल देता है। इस पौधे पर बैंगनी रंग के फूल लगते हैं जिससे निकलने वाले तंतु ही केसर हैं।

केसर से करें डिप्रेशन का इलाज
केसर मौजूद न्यूरोट्रांसमीटर डोपामाइन, सेरोटोनिन और नॉरपेनेफ्रिन दिमाग को प्रभावित करते है, जिससे आपका मूड फ्रेश रहता है और डिप्रेशन की परेशानी दूर होती है। नियमित 30 ग्राम केसर का सेवन करने से अल्जाइमर से पीड़ित मरीजों के स्वास्थ्य में सुधार होता है। जिन लोगों को अनिद्रा की परेशानी है उनके लिए भी केसर फायदेमंद है। अगर आप डिप्रेशन की शिकार हैं तो केसर वाला दूध अपनी डाइट में जरूर शामिल करें।

कैंसर से बचाव
इसमें क्रोकिन नामक वॉटर सॉल्यूबल कैरोटिन होता है जो कैंसर सेल्स को बढ़ने से रोकता है। इसका सेवन दूध, खीर, मिठाइयों आदि में डालकर खाया जा सकता है।

सिर दर्द से छुटकारा
सिर दर्द की परेशानी हो या जुकाम की समस्या, इसे दूर करने के लिए केसर का सेवन फायदेमंद है। इसके लिए दूध में केसर मिलाकर पिएं या माथे पर केसर का पेस्ट को लगाएं।

पाचन क्रिया दुरुस्त
केसर के एंटीऑक्सीडेंट और एंटीइंफ्लेमेटरी गुण पाचन संबंधी की समस्याओं को दूर करके कारगर है। ठंड़ के मौसम में इसका सेवन सुरक्षित है लेकिन सेवन सीमित मात्रा में करें।

अस्थमा से बचाव
इस मौसम में सांस लेने संबंधी भी परेशानियां पैदा होने लगती है, यही कारण है कि अस्थमा के रोगी को अपना खास ख्याल रखना पड़का है। कुछ दिनों तक लगातार तक दिन में एक बार केसर की चाय पिए। इससे अस्थमा का अटैक के होने की संभावना हो जाती है लेकिन 1 कप पानी में केसर का एक या दो धागा ही डालें, इससे ज्यादा मात्रा नुकसान पहुंचा सकती है।

केसर की चाय
कड़कड़ी ठंड़ से बचाव करने के लिए केसर की चाय बेस्ट है। इसे कश्मीर में काहवा भी कहा जाता है जिसमें पानी में केसर, लौंग, दालचीनी, इलायची, ड्राई फ्रूट चीजें डालकर बनाया जाता है। इसे पीने से पाचन क्रिया दुरूस्त होने के साथ-साथ इम्यूनिटी पावर भी बढ़ने लगती है।

केसर वाला दूध
पोषक तत्वों से भरपूर केसर का दूध सर्दी के मौसम में लाभकारी है। रात को सोने से पहले एक गिलास केसर वाले गर्म दूध का सेवन करें। इससे तनाव दूर होगा, सर्दी, खांसी और जुकाम से बचाव रहेगा। दिल को स्वस्थ रखने में भी यह लाभकारी है।

लंबे समय तक न करें केसर का सेवन
केसर का सेवन कर रहे हैं तो इस बात का ख्याल रखें कि लगातार 6 हफ्ते तक इसे डाइट में शामिल न करें। लंबे समय तक इसका सेवन शरीर को नुकसान पहुंचा सकता है। हफ्ते में 2 या 3 बार केसर वाला दूध पी सकते हैं। इसके लिए डॉक्टरी परामर्श ले सकते हैं।

केसर खाने का सही तरीका
1 कप उबलते पानी में केसर के 3-4 धागे डालें, इसे 10 मिनट उबलने दे और फिर चाय की तरह सेवन करें।

एक कप दूध में चीनी और 2-3 धागे केसर को 5 मिनट तक के लिए उबलने के बाद पीेएं।

खीर, सब्जी या सलाद में 1 मिलीग्राम केसर पाउडर को मिला कर खा सकते हैं।

=>