इस मामले मे बिहार से गया गुजरा निकला यूपी, पंजाब का पहला नम्बर

नई दिल्ली। ई-पेमेंट के मामले में उत्तरी राज्यों ने दक्षिण को बहुत पीछे छोड़ दिया है। ई पेमेंट के जरिए बिजली के बिल के भुगतान के मामले में आंध्र प्रदेश को छोड़कर कोई दक्षिणी राज्य पहले दस प्रदेशों की सूची में शामिल नहीं है। दिलचस्प बात यह है कि बिल का ई पेमेंट के मामले में झारखंड चौथे स्थान पर है। जबकि दक्षिणी राज्यों के मुकाबले झारखंड में स्मार्टफोन और इंटरनेट की संख्या बहुत कम है।

बिजली मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, पिछले साल दिसंबर में ई पेमेंट के जरिए बिजली बिल का भुगतान करने के मामले में पंजाब पहले नंबर पर था। इसके बाद आंध्र प्रदेश का नंबर आता है। राजस्थान तीसरे और झारखंड चौथे स्थान पर है। पंजाब में 38.24 फीसदी उपभोक्ता ई पेमेंट के जरिए बिल देते हैं। वहीं, राजस्थान में 26.97 और झारखंड में 26.03 प्रतिशत उपभोक्ता मोबाइल या इंटरनेट के जरिए बिल का भुगतान करते हैं। खास बात यह है कि दो साल पहले दिसंबर 2016 में झारखंड ई पेमेंट के मामले में 22वें स्थान पर था। जबकि दिसंबर 2017 में झारखंड का 17वां स्थान था।

मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि सरकार की कोशिश है कि कम से कम 50 फीसदी उपभोक्ता ई पेमेंट से बिल भुगतान करे। सरकार ई पेमेंट को बढ़ावा देने के लिए कुछ प्रोत्साहन देने की भी तैयारी कर रही है। स्मार्ट मीटर को बढ़ावा देने के लिए भी योजना पर विचार किया जा रहा है। सरकार ने तीन साल के अंदर सभी पुराने मीटरों को स्मार्ट मीटर में बदलने का लक्ष्य रखा है।

राज्य ई पेमेंट
पंजाब 38.24%
आंध्र प्रदेश 33.12%
राजस्थान 26.97%
झारखंड 26.03%
हरियाणा 25.94%
उत्तराखंड 25.91%
बिहार 20.66%
उत्तर प्रदेश 15.30%

=>