लालू के पटना वाले घर पर सीबीआई की रेड, रेल मंत्री रहते खूब किया घपला 

Ranchi: RJD leader and former Bihar chief minister Lalu Prasad arrives at a special CBI court in Ranchi on Thursday connection with the multi-crore fodder scam case. PTI Photo(PTI6_22_2017_000024B)

पटना। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की  होने के नाम नहीं ले रही हैं। केंद्र सरकार के खिलाफ उनका विरोध उन्हें महंगा पड़ रहा है। अब साल 2006 में रेल ,मंत्री रहतेब रेलवे का होटल निजी कंपनी को देने के मामले में लालू प्रसाद यादव की घर में सीबीआई के एक दर्जन से अधिक अधिकारियों ने रेड डाली है और जांच कर रही है।

सीबीआई की टीम ने छापे के दौरान लालू के बेटे तेजस्वी यादव, सरला गुप्ता और पीके गोयल के निवास से लैपटॉप, आईपैड और मैल पर निविदा संबंधी दस्तावेजों को प्राप्त किया। साथ ही विनय कोचर और विजय कोचर से खाता विवरण और ई-मेल आईडी भी ले गयी। इसके अलावा जिन कंपनियों में उन्होंने काम किया उनसे जिन कंपनियों में उन्होंने काम किया, वहां का विवरण भी प्रस्तुत करने के लिए कहा। बैंक खाते/लॉकर का भी विवरण लिया गया.

सीबीआई की छापेमारी पर प्रतिक्रिया देते हुए राजद के मनोज झा ने इसे भारतीय लोकतंत्र के लिए काला दिन करार दिया. उन्होंने कहा कि राजद इस तरह की हरकतों से नहीं झुकेगी. पार्टी इस मामले में कानूनी और राजनीतिक लड़ाई लड़ेगी.

बता दें कि सीबीआई ने लालू प्रसाद यादव, उनकी पत्नी राबड़ी यादव, बेटे समेत कई अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज किया है. इसके अलावा जांच एजेंसी ने दिल्ली, पटना, रांची, पुरी और गुरुग्राम समेत 12 ठिकानों पर छापेमारी की है. केंद्रीय जांच एजेंसी छापेमारी की कार्रवाई पर शुक्रवार को 10.45 बजे जानकारी देगी.

लालू, उनकी पत्नी राबड़ी देवी और बेटे तेज प्रताप के अलावा दो कपंनियों के डायरेक्टरों के खिलाफ भी केस दर्ज किया गया है. लालू पर आरोप है कि रेलमंत्री रहने के दौरान उन्होंने रांची और पुरी समेत अन्य रेलवे होटलों के विकास और मरम्मत का ठेका निजी कंपनियों को दिया था.

बतौर रेल मंत्री राष्ट्रीय जनता दल के नेता लालू यादव ने सुजाता होटल्स प्राइवेट लिमिटेड को ठेका दिया था. रांची और पुरी स्थित दो बीएनआर होटलों के रखरखाव, निर्माण और देखभाल का जिम्मा सुजाला होटल्स प्राइवेट लिमिटेड को दिया गया था

=>