बिहार

जगत कल्याण के लिए जितिया के दिन उपवास पर माँ विंध्यवासिनी , बाबा ठाकुर संग अमित्रजीत ने किया हवन

मां पर भेंट चढ़े फल-मिठाईयां की बांटी जाती है प्रसाद ,ग्रहण करने वाले का होता है कायाकल्प

>> जितिया के दिन शक्तिदात्री माता के दर्शन से संकट होता हैं दूर

रवीश कुमार मणि
पटना ( अ सं ) । अपने पुत्रों की लंबी आयु और खुशियों के लिए प्रत्येक मां, निर्जला व्रत के रूप में जितिया करती हैं । इसी तरह जितिया के दिन सम्पूर्ण जगत कल्याण के लिए माता विंध्यवासिनी उपवास पर रहती हैं । उक्त बातें विंध्याचल के बाबा ठाकुर जी ने कहीं । बाबा ठाकुर जी एवं पत्रकार अमित्रजीत जी ने जितिया पर्व के अवसर पर संसार में शांति ,सदभाव ,विकास के लिए विशेष पूजा -पाठ एवं हवन किया हैं ।
     बाबा ठाकुर जी के बारे में मां विंध्यवासिनी के भक्त पत्रकार अमित्रजीत ने बताया की बाबा ठाकुर जी मां विन्ध्यवासिनी के द्वार पर 40 वर्षों से सेवा में जुटे हैं । बाबा ठाकुर जी मां विन्ध्यवासनी के कई किलोमीटर तक पैदल चलते हैं और मां के भक्ति का गुणगान की चर्चा करते फिरते हैं और सभी संकट का निवारण का उपाय मात्र सही समय पर दर्शन और पूजन की विधि बताकर करते हैं । सबसे बड़ी बात तो यह हैं की बाबा ठाकुर जी, किसी भक्त या श्रद्धालु से कोई रूपया नहीं लेते हैं । 40 वर्षों से भीखछाटन कर आहार तक करते हैं और कभी मां के द्वार छोड़खर नहीं जाते ।
बाबा ठाकुर जी ने माता विन्ध्यवासिनी के आशीर्वाद के बारे में बताया की जो भी भक्त जितिया के दिन माता के दर्शन करते हैं उसपर आने वाला संकट टल ही नहीं जाता बल्कि भविष्य में कभी संकट नहीं आता। ठाकुर जी ने बताया की जो भी जितिया के दिन दुर्गा रूपी माता का दर्शन ,पूजा -पाठ करते हैं उसका संकट एक वर्षों तक जरूर टल जाता हैं ।
loading...
=>

Related Articles