लखनऊ

15 हजार इनाम घोषित होते ही अर्पण लखीमपुर कोर्ट में हाजिर

लखनऊ। गोमतीनगर में प्रशांत सिंह की हत्या के मुख्य आरोपी अर्पण शुक्ला व विमल सिंह पर मंगलवार सुबह डीजीपी ने 15 हजार रुपये इनाम घोषित किया, इसके कुछ देर बाद ही अर्पण लखीमपुर कोर्ट में हाजिर हो गया। पुलिस का दावा है कि वह एक पुराने अपराधिक मामले में जमानत कटवा कर जेल चला गया। विमल के भी हाजिर होने की अफवाह फैली लेकिन इसकी पुष्टि नहीं हो सकी। इस मामले में दो आरोपी पहले गिरफ्तार हो चुके हैं।
अर्पण शुक्ला ने 13 फरवरी को अपने साथियों के साथ प्रशांत की उस समय हत्या कर दी थी जब वह अपने दोस्त साजिद के साथ इनोवा से अलकनंदा अपार्टमेंट के गेट पर पहुंचा था। इस मामले में पहली गिरफ्तारी साजिश रचने के आरोप में पूर्व विधायक शमशेर बहादुर सिंह के बेटे अमन बहादुर की हुई थी। अमन हत्या के समय मौके पर नहीं था। अमन के बाद पुलिस ने अभिषेक पाण्डेय को गिरफ्तार किया था। अभिषेक ने बताया था कि मुख्य आरोपी अर्पण शुक्ला था। उसने और विमल ने ही पूरी साजिश रची थी। अर्पण व विमल बीबीडी कालेज के छात्र हैं।
फरार होने पर 15 हजार रुपये इनाम
पुलिस कमिश्नर सुजीत पाण्डेय के मुताबिक मंगलवार सुबह ही डीजीपी ने हत्या में मुख्य भूमिका निभाने वाले अर्पण व विमल पर 15-15 हजार रुपये इनाम घोषित किया था। इसके कुछ देर बाद ही पता चला कि अर्पण लखीमपुर में एक अदालत में पुराने मामले में जमानत कटवा कर हाजिर हो गया है। इसके बाद ही उसका इनाम निरस्त कर दिया गया।
गैरजमानती वारन्ट लेगी पुलिस
एसीपी गोमतीनगर संतोष कुमार सिंह ने बताया कि विमल, हार्दिक उपाध्याय समेत छह आरोपियों की तलाश की जा रही हैं। इनमें से दो के पिता वकील है। इन फरार आरोपियों के खिलाफ गैरजमानती वारन्ट लेने के लिये पुलिस बुधवार को कोर्ट में अर्जी देगी।
loading...
Loading...

Related Articles